बिज़नेस न्यूज़ » Economy » Policy20 लाख नहीं अब 1 करोड़ रु तक रख सकेंगे कैश, Blackmoney पर बनी SIT ने की सिफारिश

20 लाख नहीं अब 1 करोड़ रु तक रख सकेंगे कैश, Blackmoney पर बनी SIT ने की सिफारिश

Blackmoney पर बनी SIT ने कैश होल्डिंग लिमिट 1 करोड़ रुपए किए जाने की सिफारिश केंद्र सरकार को भेजी है।

SIT on black money suggests Rs 1 crore cap on cash holdings

 

अहमदाबाद. Blackmoney पर बनी स्पेशल इन्वेस्टिगेशन टीम (SIT) ने कैश होल्डिंग लिमिट 1 करोड़ रुपए किए जाने की सिफारिश केंद्र सरकार को भेजी, जबकि उसने पहले यह लिमिट 20 लाख करने का सुझाव दिया था। एसआईटी की अगुआई कर रहे जस्टिस (रिटायर्ड) एम बी शाह ने कहा कि एसआईटी ने छापेमारी में मिलने वाली इस लिमिट से ज्यादा रकम को सरकारी खजाने में जमा किए जाने का सुझाव भी दिया है।


पहले सुझाई थी 20 लाख की लिमिट

इसे पहले 15 लाख और 20 लाख रुपए की लिमिट सुझाई गईं थीं, जिनके काफी कम लगने पर नई सिफारिशें की गई हैं। जस्टिस शाह ने कहा, ‘हमने सिफारिश की है कि कैश होल्डिंग की लिमिट 1 करोड़ रुपए की जानी चाहिए। हमने यह सिफारिश भी की है कि 1 करोड़ रुपए की कैश होल्डिंग लिमिट से ज्यादा कैश जब्त होने पर पूरी रकम सरकार को मिलनी चाहिए।’

मौजूदा नियमों के मुताबिक, आरोपी 40 फीसदी इनकम टैक्स और पेनल्टी चुकाने के बाद अपना पैसा वापस पा सकता है। देश में हाल में टैक्स अधिकारियों द्वारा छापेमारी में भारी कैश जब्त किए जाने के बाद ये सिफारिशें सामने आई हैं।


तमिलनाडु में हाल में जब्त हुए थे 160 करोड़

इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने 16 जुलाई को तमिलनाडु में हाईवे कंस्ट्रक्शन से जुड़ी एक कंपनी और उसकी सहयोगी कंपनियों के 20 परिसरों से 160 करोड़ रुपए कैश और 100 किलोग्राम सोना जब्त किया था। जस्टिस शाह ने कहा, ‘जब्त किए जा रहे कैश की मात्रा देखिए, 166 करोड़ रुपए....177 करोड़ रुपए।’

 

 

यह भी पढ़ें-नोटबंदी के बाद चेन्नई में सबसे बड़ी इनकम टैक्स रेड, 160 करोड़ कैश बरामद, 18 महीने में मोदी सरकार ने की 5 बड़ी छापेमारी

 

2014 में बनी थी एसआईटी

उन्होंने कहा, ‘जब्त की जा रही रकम खासी ज्यादा है। इसलिए मेरी राय है कि 20 लाख रुपए की लिमिट कारगर नहीं होगी।’ जस्टिस शाह ने पूर्व में कैश होल्डिंग लिमिट 15 लाख रुपए करने का सुझाव दिया था। हालांकि बाद में उन्होंने लिमिट बढ़ाकर 20 लाख रुपए करने की सिफारिश की थी।

केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद 2014 में एसआईटी का गठन किया था। पैनल लगातार सरकार को ब्लैकमनी रोधी उपाय अपनाने के लिए सुझाव दे रहा था।

 
 
prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट