Home » Economy » Policyinflation was at about 3 per cent in April last year

अनाज-फलों की कीमतों में तेजी से बढ़ी रिटेल महंगाई, अप्रैल में 4.58% हुई CPI

अनाज, फल, मीट और मछली के दाम बढ़ने से कंज्‍यूमर प्राइज इंडेक्‍स (CPI) अप्रैल में बढ़कर 4.58 फीसदी हो गया है।

1 of

 

नई दिल्‍ली. अनाज, फल, मीट और मछली के दाम बढ़ने से रिटेल महंगाई (CPI) अप्रैल में बढ़कर 4.58 फीसदी हो गई है। मार्च तक सीपीआई में गिरावट का ट्रेंड चल रहा था। मार्च में यह 4.28 फीसदी पर थी। पिछले साल अप्रैल में सीपीआई दर 2.99 फीसदी पर थी। अप्रैल में भारतीय रिजर्व बैंक इसी डाटा को पॉलिसी रेट तय करने का आधार बनाता है।
 
 
जनवरी से मार्च तक घटी थी CPI की दर
CPI की दर में इस साल जनवरी से लेकर मार्च तक लगातार घट रही थी। CSO की तरफ से जारी डाटा के अनुसार अप्रैल में प्रोटीन रिच डाइट जैसे मछली और मीट के दाम बढ़े हैं। इनका इंडेक्‍स जहां मार्च में 3.17 फीसदी पर था, वहीं अप्रैल में यह बढ़कर 3.59 फीसदी हो गया। इसी प्रकार फलों के दाम भी बढ़े हैं। इनका इंडेक्‍स जहां मार्च में 5.78 फीसदी पर था, जो अप्रैल में बढ़कर 9.65 फीसदी पर आ गया।
 
 
सब्जियां सस्‍ती हुईं
वहीं अप्रैल में सब्जियां कुछ सस्‍ती हुई हैं। इनका इंडेक्‍स जहां मार्च में 11.7 फीसदी पर था, वहीं यह अप्रैल में घटकर 7.29 फीसदी पर आ गया। हालांकि पूरे फूड बास्‍केट का इंडेक्‍स 2.8 फीसदी पर अपरिवर्तित रहा।
 
 
थोक महंगाई भी 4 साल के टॉप पर
अप्रैल में थोक महंगाई दर 3.18 फीसदी दर्ज की गई। यह पिछले 4 माह का टॉप लेवल है। थोक महंगाई में आई तेजी की वजह पेट्रोल और फलों के थोक दाम में तेज बढ़ोत्‍तरी रही है। मार्च 2018 में थोक महंगाई दर 2.47 फीसदी और पिछले साल अप्रैल में 3.85 फीसदी दर्ज की गई थी। वहीं 4 माह पहले दिसंबर 2017 में थोक महंगाई दर 3.58 फीसदी रही थी।
 
 
मॉर्गन स्‍टेनली ने भी जताया है महंगाई बढ़ने का अनुमान
ग्‍लोबल फाइनेंशियल सर्विस एजेंसी मॉर्गन स्‍टेनली ने अनुमान जताया है कि महंगाई की दर बढ़ने RBI अक्‍टूबर से दिसंबर की तिमाही के दौरान पॉलिसी रेट बढ़ाना शुरू कर सकता है। उसके अनुमान के अनुसार RBI 3 बार में इसे बढ़ाकर 6.75 फीसदी तक कर सकता है। इस ग्‍लोबल फाइनेंशियल सर्विस एजेंसी ने कहा है कि महंगाई में तेज बढ़त आरबीआई के तय दायरे से बाहर जा सकती है।

 

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट