बिज़नेस न्यूज़ » Economy » Policyराजन ने कहा लोकसभा चुनाव तक थम सकते हैं आर्थिक सुधार, रोजगार के मौकों को लेकर जताई चिंता

राजन ने कहा लोकसभा चुनाव तक थम सकते हैं आर्थिक सुधार, रोजगार के मौकों को लेकर जताई चिंता

रिजर्व बैंक के पूर्व गवर्नर रधुराम राजन का मानना है कि अगले लोकसभा चुनाव तक आर्थिक सुधार पर विराम लगाया जा सकता है।

1 of

 

 
नई दिल्‍ली. रिजर्व बैंक के पूर्व गवर्नर रधुराम राजन का मानना है कि अगले लोकसभा चुनाव तक आर्थिक सुधार पर विराम लगाया जा सकता है। हालांकि उन्‍होंने आशा जताई कि इसके बाद भी देश तेज आर्थिक प्रगति के रास्‍ते पर चल सकता है। हालांकि उन्‍होंने रोजगार के मौकों को लेकर चिंता भी जताई। 
 
 
अगले साल होंगे आम चुनाव
देश में आमचुनाव 2019 में होने हैं। राजन ने एक मीडिया से इंटरव्‍यू में कहा कि रोजगार के मौके चिंता की विषय हैं। उन्‍होंने कहा कि 7.5 फीसदी की GDP ग्रोथ के बाद भी हर साल एक करोड़ लोगों को ज्‍यादा को रोजगार के मौके देना कठिन कार्य है। 

 
चुनाव तक रुक सकते हैं आर्थिक सुधार
उन्‍होंने कहा कि मेरा मानना है कि आर्थिक सुधार अगले आमचुनाव तक राके जा सकते हैं। हालांकि उन्‍होंने साफ किया कि चुनाव के बाद अगर हम फिर से तेज गति आर्थिक सुधार को आगे बढ़ाते हैं तो कोई कारण नहीं है कि तेज आर्थिक प्रगति को न पाया जा सके। उन्‍होंने कहा कि 7.5 फीसदी की आर्थिक प्रगति 1.2 करोड़ लोगों को हर साल रोजगार देने में सक्षम नहीं होगी। 
 
10 फीसदी गति से हो सकता है विकास 
उन्‍होंने कहा कि देश 10 फीसदी की गति से आर्थिक विकास कर सकता है, लेकिन इसके लिए जरूरी है कि विदेश से कुछ डिमांड आनी चाहिए। उन्‍होंने कहा कि मेरा मानना है कि ऐसा संभव है, लेकिन हमे कोशिश करनी होगी। उन्‍होंने कहा कि देश में रिफॉर्म्‍स तो हुए हैं, लेकिन इनकी गति काफी धीमी रही है। हो सकता है कि इसके कारण राजनीतिक मजबूरियां रही हों। 

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट