बिज़नेस न्यूज़ » Economy » Policyप्रधानमंत्री मोदी ने तीन साल पहले कॉल ड्रॉप खत्म करने के लिए कहा था, आज तक नहीं हुआ

प्रधानमंत्री मोदी ने तीन साल पहले कॉल ड्रॉप खत्म करने के लिए कहा था, आज तक नहीं हुआ

मंत्री कहते हैं, कॉल ड्राप दुनिया की आम समस्या

Prime Minister Modi had asked to finish the call drop three years ago

मनी भास्कर, नई दिल्ली।

 

तीन साल पहले यानी कि साल 2015 के अगस्त माह में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कॉल ड्रॉप की समस्या को खत्म करने का निर्देश दिया था। उन्होंने इस मामले में टेलीकॉम कंपनियों के लचर रवैये पर रोष भी जाहिर किया था। लेकिन प्रधानमंत्री के सख्त निर्देश के बावजूद कॉल ड्रॉप की समस्या लगातार जारी है।

 

वहीं, दूसरी तरफ देश के संचार राज्य मंत्री मनोज सिन्हा का कहना है कि कॉल ड्रॉप दुनिया की आम समस्या है। मतलब कॉल ड्रॉप हर देश में होता है, यह सिर्फ हमारे देश में ही नहीं है। हाल ही में संसद में कॉल ड्रॉप को लेकर पूछे गए एक सवाल के जवाब में उन्होंने ऐसा कहा था।

 

मंत्री ने बताया कॉल ड्राप के कई कारण

सिन्हा ने कहा कि किसी मोबाइल नेटवर्क में कॉल ड्रॉप होने के लिए कई कारण जिम्मेदार है। इनमें वायरलेस कम्युनिकेशन के लिए रेडियो प्रोपेगेशन, टावर के लिए जमीन के अधिग्रहण, स्थानीय निकाय द्वारा टावर की साइट को सील कर देना जैसी कई समस्या शामिल हैं। उन्होंने बताया कि वायरलाइन सेलुलर मोबाइल टेलीफोन सर्विस के लिए नए नियम को पिछले साल अक्टूबर से लागू कर दिया गया है। इससे बेहतर सेवा मिलने की उम्मीद है। उन्होंने बताया कि सरकार टेलीकॉम कंपनियों की लगातार रिव्यू करती रहती है।

 

क्या कर रही है सरकार

कॉल ड्रॉप खत्म करने के लिए सरकार मोबाइल टावर नेटवर्क को बढ़ाने पर पूरा जोर दे रही है। इस काम के लिए सरकारी भवनों का इस्तेमाल किया जा रहा है। मोबाइल टावर को टेलीकॉम कंपनियों द्वारा आपस में शेयर करने के लिए सरकार की तरफ से तरंग संचार की शुरुआत की गई है। ट्राई कॉल ड्रॉप को लेकर विभिन्न शहरों में स्वतंत्र रूप से सर्वे कराता है। शहरों के साथ नेशनल हाईवे एवं रेलवे रूट पर भी सर्वे कराए जाते हैं।

 

यह भी पढ़ें, फोन पर रुक-रुक कर बात होना भी माना जाएगा कॉल ड्रॉप, कंपनी पर लगेगा 5 लाख का जुर्माना

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट