बिज़नेस न्यूज़ » Economy » Policyदेश की तरक्‍की में भागीदार बनें प्रवासी भारतीय, पीएम मोदी ने किया अाग्रह

देश की तरक्‍की में भागीदार बनें प्रवासी भारतीय, पीएम मोदी ने किया अाग्रह

प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने भारतीय मूल के लोगों (PIO) से आग्रह किया है वह देश की तरक्‍की में भागीदार बनें।

देश में हो रहे बदलाव की जानकारी दी - Informed about changes in the country
 
नई दिल्‍ली. प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने भारतीय मूल के लोगों (PIO) से आग्रह किया है वह देश की तरक्‍की में भागीदार बनें। उन्‍होंने कहा कि भारत में कई बहुत बड़े सुधार किए गए हैं जिससे करोबारी माहौल सुधरा है। मोदी ने मंगलवार को पहली पार्लियामेंट कॉन्फ्रेंस का इनॉगरेशन किया। मोदी ने कहा कि जो भी लोग भारत से गए, यहां अपने अंश छोड़कर गए हैं। भारत में ट्रांसफॉर्म हो रहा है, अब हर लेवल पर बदलाव दिखेगा। बीते तीन साल में भारत में सबसे ज्यादा इन्वेस्टमेंट हुआ है। इस कॉन्फ्रेंस में 23 देशों के 124 सांसद और 17 मेयर हिस्सा ले रहे हैं।
 
 

हर साल 9 जनवरी को प्रवासी भारतीय दिवस मनाया जाता है

हर साल 9 जनवरी को प्रवासी भारतीय दिवस मनाया जाता है। इसका मकसद विदेशों में रह रहे भारतीय मूल के लोगों के अपने देश के लिए किए गए काम को अहमियत देना है। बीते कई सालों से सरकार प्रवासी भारतीय दिवस मना रही है, लेकिन इस साल पहली बार PIO-पार्लियामेंट्री कॉन्फ्रेंस का आयोजन किया गया है।
 
 

भाषण की खास बातें

- "आपने अनुभव किया होगा कि पिछले तीन या चार साल में दुनिया का भारत के प्रति नजरिया बदला है।''
- "भारत ट्रांसफॉर्म हो रहा है। यह सामाजिक और आर्थिक स्तर के साथ ही वैचारिक स्तर पर भी बदल रहा है। भारत अब पुरानी सोच से बहुत आगे बढ़ चुका है।''
- "लोगों की आशाएं उच्चतम स्तर पर हैं। ये बदलाव आपको हर स्तर पर नजर आएगा। पिछले साल 16 बिलियन डॉलर का एफडीआई भारत आया। ईज ऑफ डूइंग में 42 स्थानों का सुधार हुआ। ग्लोबल इंडेक्स में 21 रैंकिंग का सुधार हुआ। आज वर्ल्ड बैंक, आईएमएफ और मूडीज जैसी संस्थाएं भारत की तरफ आशा भरी नजरों से देख रही हैं।''
- "माइनिंग और इलेक्ट्रॅानिक और कंप्यूटर साइंस में भारत ने दुनिया को रास्ता दिखाया। इन सेक्टर्स में आधे से ज्यादा निवेश पिछले तीन साल में हुआ। यह इसलिए हुआ क्योंकि हम आर्थिक नीति में रिफॉर्म टू ट्रांसफॉर्म में काम कर रहे हैं। करप्शन कम कर रहे हैं। जीएसटी के जरिए सैकड़ों टैक्स का जाल खत्म किया है। आर्थिक एकीकरण किया है।''
 
prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट