Home » Economy » PolicyCEA Arvind Subramanian to return to US due to family reasons

CEA पद छोड़ेंगे अरविंद सुब्रमण्यन, कहा-मेरे लिए रही अब तक की 'बेस्ट जॉब'

अरविंद सुब्रमण्यन व्यक्तिगत कारणों चीफ इकोनॉमिक एडवाइजर (CEA) के पद पर नहीं रहेंगे।

CEA Arvind Subramanian to return to US due to family reasons

नई दिल्ली. चीफ इकोनॉमिक एडवाइजर (CEA) अरविंद सुब्रमण्यन व्यक्तिगत कारणों से अक्टूबर के बाद इस पद पर नहीं रहेंगे। उनका कार्यकाल इस साल अक्टूबर में खत्म होने जा रहा है, जिसके बाद वह वापस अमेरिका लौट जाएंगे। फाइनेंस मिनिस्टर अरुण जेटली अपनी एक फेसबुक पोस्ट के माध्यम से यह जानकारी दी है। उधर, चीफ इकोनॉमिक एडवाइजर अरविंद सुब्रमण्यन ने कहा कि उन्होंने अभी तक फाइनेंस मिनिस्ट्री को छोड़ने की तारीख पर फैसला नहीं किया है, लेकिन ऐसा एक या दो महीने में हो जाएगा। उन्होंने संकेत दिए कि सितंबर की शुरुआत में वह अमेरिका वापस लौट सकते हैं।

 

1-2 महीने में चला जाऊंगाः सुब्रमण्यन

रिपोर्टर्स से बातचीत में सुब्रमण्यन ने कहा कि उनके लिए यह सबसे अच्छा काम था और ‘साथ ही मेरे लिए अब तक की सबसे अच्छी जॉब होगी।’ उन्होंने कहा, ‘मैं शानदार यादों के साथ लौटूंगा। मैं भविष्य में भी हमेशा देश की सेवा के लिए तत्पर रहूंगा।’ फाइनेंस मिनिस्ट्री से अलग होने के सवाल पर उन्होंने कहा कि अभी तक जाने की तारीख तय नहीं की है। सुब्रमण्यन ने कहा, ‘मैं एक या दो महीने में चला जाऊंगा।’

 

 

जेटली ने फेसबुक पर किया खुलासा

जेटली ने अपनी फेसबुक पोस्ट में लिखा, ‘कुछ दिन पहले चीफ इकोनॉमिक एडवाइजर अरविंद सुब्रमण्यन वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से मुझसे रूबरू हुए। उन्होंने मुझे बताया कि वह पारिवारिक प्रतिबद्धताओं के बढ़ते दबाव के कारण अमेरिका वापस लौटना चाहेंगे। उनकी वजह व्यक्तिगत हैं, लेकिन वह हमारे लिए खासे अहम है। उन्होंने हमारे लिए कोई ऑप्शन नहीं छोड़ा, लेकिन हम उनसे सहमत हैं।’

 

CEA पोस्ट पर मिला था एक साल का एक्सटेंशन

पीटरसन इंस्टीट्यूट फॉर इंटरनेशनल इकोनॉमिक्स में सीनियर फेलो सुब्रमण्यन को अक्टूबर 2014 में चीफ इकोनॉमिक एडवाइजर (सीईए) नियुक्त किया गया था। उनका कार्यकाल तीन साल का था। उन्होंने 16 अक्टूबर, 2017 को एक साल के लिए एक्सटेंशन दिया गया था।

 

वापस अमेरिका जाने की थी खबरें

एक साल का सेवा विस्तार मिलने से पहले ऐसी खबरें थीं कि सुब्रमण्यन अपना तीन साल का कार्यकाल पूरा करके वापस अमेरिका जाना चाहते हैं। सुब्रमण्यम वाशिंगटन के पीटरसन इंस्टीट्यूट फाॅर इंटरनेशनल इकोनॉमिक्स में सीनियर फेलो हैं और अभी वहां से छुट्टी पर हैं।

सुब्रमण्यन के भारत सरकार में सीईए का पद छोड़कर वापस एकेडमिक्स में लौट जाने की खबरें इसलिए भी चल रही थीं, क्योंकि उनसे पहले नीति आयोग के उपाध्यक्ष अरविंद पनगढ़िया ने भी इसी आधार पर यह पद छोड़कर वापस एकेडमिक्स में लौटने का निर्णय लिया था।

 

सरकार को अहम मुद्दों पर सलाह देते हैं CEA

सीईए आम तौर पर फाइनेंस मिनिस्टर को मैक्रो इकोनॉमिक मामलों और छमाही विश्लेषण व इकोनॉमिक सर्वे सहित कई प्रमुख जिम्मेदारियों में सलाह देने का काम करते हैं। सुब्रमण्यन ने दिल्ली के सेंट स्टीफंस कॉलेज से ग्रेजुएशन की और इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट, अहमदाबाद से एमबीए की डिग्री हासिल की। उन्होंने यूनिवर्सिटी ऑफ ऑक्सफोर्ड, यूके से एमफिल और डीफिल किया था।

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट