बिज़नेस न्यूज़ » Economy » Policyआतंकी फंडिंग पर पाकिस्तान को बड़ा झटका, FATF ने ग्रे लिस्ट में किया शामिल

आतंकी फंडिंग पर पाकिस्तान को बड़ा झटका, FATF ने ग्रे लिस्ट में किया शामिल

आतंकी ग्रुप्‍स को फंडिंग के मामले में पाकिस्तान को बुहत बड़ा झटका लगा है।

1 of

नई दिल्ली। आतंकी ग्रुप्‍स को फंडिंग के मामले में पाकिस्तान को बुहत बड़ा झटका लगा है। न्यूज एजेंसी ब्लूमबर्ग के मुताबिक आतंकी फंडिग पर नजर रखने वाली एजेंसी फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स (एफएटीएफ) ने पाकिस्तान को ग्रे लिस्ट में डाल दिया है। ग्रे लिस्ट में शामिल देशों पर टेरर फंडिग के लिए कड़ी निगरानी रखी जाती है। बता दें कि इससे पहले एफएटीएफ ने पाकिस्तान को सफाई देने के लिए 3 महीने का समय दिया था। 

 

 

चीन ने भी वापस ली आपत्तियां 
तीन दिनों से पेरिस में चल रही इस बैठक में पाकिस्तान पर आतंकवाद के खिलाफ शिकंजा कसे जाने को लेकर चर्चा की जा रही थी। पाक पर यह कदम अमेरिका द्वारा दिए गए प्रस्ताव पर उठाया गया है। सूत्रों के मुताबिक पाकिस्तान के खिलाफ अमेरिका द्वारा पेश किए गए प्रस्ताव का भारत, ब्रिटेन और फ्रांस जैसे देशों ने समर्थन किया। वहीं, पाकिस्तान का हमेशा सपोर्ट करने वाले चीन ने भी उसका साथ छोड़ते हुए प्रस्ताव पर अपनी आपत्तियां वापस ले लीं। अब फैसले की आधिकारिक घोषणा होना रह गया है। 

 

अमेरिका ने रोकी 1625 करोड़ की मदद
पाकिस्‍तान को अमेरिका से दी जाने वाली 1625 करोड़ रुपए की सैन्‍य मदद पहले ही डोनाल्‍ड ट्रंप रोक चुके हैं। अमेरिका लश्‍कर-ए-तैय्यबा के चीफ आतंकी हाफिज सईद के खिलाफ कार्रवाई न करने से काफी नाराज है। भारत और अमेरिका दोनों देश सईद को मुंबई हमलों के मास्‍टर माइंड मानते हैं। हाफिज सईद को ग्‍लोबल टेररिस्‍ट घोषित करके उसके सिर एक करोड़ रुपए का ईनाम भी रखा गया है।

 

 

एफएटीएफ को नहीं समझा पाया पाक
सूत्रों का कहना है कि पाकिस्तान पिछले 3 महीने से फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स को यह समझाने में लगा था कि उसे आतंकी गतिविधियों के खिलाफ एक्शन लिया है। लेकिन पाकिस्तान ऐसा समझाने में नाकाम रहा है। न्यूज एजेंसी के अनुसार पाकिस्तान सरकार की ओर से इस मामले पर कोई बयान नहीं आया है। बता दें कि एफएटीएफ का यह कदम पाकिस्तान के लिए बहुत बड़ा झटका है, क्योंकि इसका सीधा असर उसकी अर्थव्यवस्था पर होगा। पाकिस्‍तान के इस लिस्‍ट में शामिल हो जाने पर उसे दुनियाभर के देशों से व्‍यापार करने और फंड जुटाने में दिक्‍कत आएगी।

 

 

जून में फिर होगी समीक्षा 

पाकिस्तान ने मंगलवार को दावा किया था कि FAFT की मीटिंग में उसे तीन महीनों की मोहलत दिए जाने का फैसला हुआ है, लेकिन गुरुवार को पाकिस्तान के इस दावे पर उस समय सवाल खड़े हो गए थे जब अमेरिकी मीडिया के हवाले से यह खबर सामने आई कि आखिरी फैसला होना अभी बाकी है। सूत्रों के मुताबिक, अमेरिका के दवाब में इस प्रस्ताव पर फिर से वोटिंग कराई गई जिसमें ज्यादातर देशों ने पक्ष में वोट डाला। पाकिस्तान को फिलहाल तीन महीने के लिए 'ग्रे लिस्ट' डाला गया है। जून में एक बार फिर इसकी समीक्षा की जाएगी। 

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट