बिज़नेस न्यूज़ » Economy » PolicyFY18 में CAD तिगुना बढ़कर हुआ 48.7 अरब डॉलर, ट्रेड डेफिसिट ने दिया झटका

FY18 में CAD तिगुना बढ़कर हुआ 48.7 अरब डॉलर, ट्रेड डेफिसिट ने दिया झटका

करंट अकाउंट डेफिसिट (CAD) ने सरकार को तगड़ा झटका दिया है।

Higher trade gap pushes FY18 CAD over three times to $48.7 bn

 

मुंबई. करंट अकाउंट डेफिसिट (CAD) ने सरकार को तगड़ा झटका दिया है। रिजर्व बैंक (RBI) द्वारा जारी आंकड़ों के मुताबिक, वित्त वर्ष 2017-18 में सीएडी तीन गुना से ज्यादा बढ़कर 48.7 अरब डॉलर या जीडीपी का 1.9 फीसदी हो गया, जबकि इससे पिछले वित्त वर्ष के दौरान यह आंकड़ा 14.4 अरब डॉलर या जीडीपी का 0.6 फीसदी रहा था। सीएडी फॉरेक्स रिसीट्स और पेमेंट्स का अंतर होता है।

 

 

मार्च क्वार्टर में कई गुना बढ़ा सीएडी

मार्च, 2018 में समाप्त क्वार्टर की बात करें तो सीएडी कई गुना बढ़कर 13 अरब डॉलर या जीडीपी के 1.9 फीसदी के बराबर हो गया, जबकि एक साल पहले समान अवधि के दौरान यह आंकड़ा 2.6 अरब डॉलर या जीडीपी का 0.9 फीसदी रहा था। इससे पहले दिसंबर, 2017 में समाप्त क्वार्टर के दौरान सीएडी 2.1 फीसदी रहा था।

एक्सटर्नल सेक्टर के लिहाज से इकोनॉमी की मजबूती के आकलन के लिए सीएडी पर खासा ध्यान दिया जाता है और इससे करंसी मार्केट पर खासा असर पड़ता है। वर्ष 2013 में रुपया खासा कमजोर हुआ था, जब सीएडी में खासी बढ़ोत्तरी दर्ज की गई थी और यह बढ़कर जीडीपी का 5 फीसदी हो गया था।

 

 

ट्रेड डेफिसिट बढ़कर 160 अरब डॉलर

आरबीआई ने कहा कि वित्त वर्ष 2017-18 के दौरान ट्रेड डेफिसिट बढ़कर 112.4 अरब डॉलर से बढ़कर 160 अरब डॉलर के स्तर पर पहुंच गया। हालांकि सर्विसेस से अर्निंग 68.3 अरब डॉलर से बढ़कर 77.6 अरब डॉलर के स्तर पर पहुंच गईं।

 

 

फॉरेन डायरेक्ट इन्वेस्टमेंट में मामूली बढ़ोत्तरी

वहीं ग्रॉस फॉरेन डायरेक्ट इन्वेस्टमेंट मामूली बढ़कर 61 अरब डॉलर के स्तर पहुंच गया, वहीं नेट बेसिस पर देखें तो यह एक साल पहले की समान अवधि के 30.3 अरब डॉलर की तुलना में 35.6 अरब डॉलर के स्तर पर पहुंच गया।

 

पोर्टफोलियो से पूंजी प्रवाह में खासी बढ़ोत्तरी

हालांकि वित्त वर्ष 18 के दौरान पोर्टफोलियो से पूंजी प्रवाह खासा बढ़कर 22.1 अरब डॉलर के स्तर पर पहुंच गया, जबकि वित्त वर्ष 17 के दौरान यह आंकड़ा 7.6 अरब डॉलर के स्तर पर पहुंच गया। रिजर्व बैंक ने कहा कि वित्त वर्ष के दौरान फॉरेक्स रिजर्व में 43.6 अरब डॉलर की बढ़ोत्तरी दर्ज की गई।

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट