विज्ञापन
Home » Economy » PolicyFitch cuts India growth forecast for FY20 to 6.8 pc on weak momentum

Fitch ने दिया भारत को झटका,  FY20 के लिए ग्रोथ अनुमान घटाकर किया 6.8%

फिच रेटिंग्स (Fitch Ratings) ने इकोनॉमिक ग्रोथ में कमजोरी के अनुमान के साथ भारत को तगड़ा झटका दिया है।

Fitch cuts India growth forecast for FY20 to 6.8 pc on weak momentum

फिच रेटिंग्स (Fitch Ratings) ने इकोनॉमिक ग्रोथ में कमजोरी के अनुमान के साथ भारत को तगड़ा झटका दिया है।

नई दिल्ली. फिच रेटिंग्स (Fitch Ratings) ने इकोनॉमिक ग्रोथ में कमजोरी के अनुमान के साथ भारत को तगड़ा झटका दिया है। ग्लोबल रेटिंग एजेंसी ने शुक्रवार को अगले वित्त वर्ष यानी 2019-20 के लिए भारत का जीडीपी (GDP) ग्रोथ अनुमान 7 फीसदी से घटाकर 6.8 फीसदी कर दिया है। इसके साथ ही फिच रेटिंग्स (Fitch Ratings) ने मार्च, 2019 में समाप्त हो रहे चालू वित्त वर्ष के लिए ग्रोथ अनुमान में कमी कर दी है।

 

चालू वित्त वर्ष के लिए भी घटाया जीडीपी ग्रोथ अनुमान

रेटिंग एजेंसी ने अपने ताजा ग्लोबल इकोनॉमिक आउटलुक (Global Economic Outlook) में वित्त वर्ष 2018-19 के लिए जीडीपी ग्रोथ अनुमान को घटाकर 6.9 फीसदी कर दिया, जबकि दिसंबर एडिशन में 7.2 फीसदी का अनुमान जाहिर किया गया था। चालू वित्त वर्ष के लिए 6.9 फीसदी का अनुमान सेंट्रल स्टैटिस्टिक्स ऑफिस (CSO) के 7 फीसदी के अनुमान से भी कम है। वित्त वर्ष 2017-18 के दौरान भारत की जीडीपी ग्रोथ 7.2 फीसदी रही थी।

 

यह भी पढ़ें-लगातार बढ़ती रहे दौलत, इसलिए अमीर इन 4 जगहों पर लगाते हैं पैसा

 

तीसरी तिमाही सुस्त पड़ी ग्रोथ

फिच (Fitch Ratings) ने कहा, ‘भले ही हमने मार्च, 2020 में समाप्त वित्त वर्ष के लिए ग्रोथ अनुमान में कटौती कर दी है।’ रेटिंग एजेंसी ने कहा कि अक्टूबर-दिसंबर में लगातार दूसरी तिमाही के दौरान सुस्ती के कारण जीडीपी ग्रोथ में सुस्ती रहेगी, जब 6.6 फीसदी की ग्रोथ रही थी। इससे पहले जुलाई-सितंबर तिमाही में ग्रोथ 7 फीसदी और अप्रैल-जून में यह आंकड़ा 8 फीसदी रहा था।

 

यह भी पढ़ें-रोज इन 6 कामों के लिए नहीं निकाला टाइम, तो टूट जाएगा अमीर बनने सपना

 

मैन्युफैक्चरिंग और एग्रीकल्चर सेक्टर ने दिया झटका

फिच ने कहा, ‘मैन्युफैक्चरिंग और एग्रीकल्चर सेक्टर में सुस्ती की वजह से यह गिरावट देखने को मिल रही है। अर्थव्यवस्था में सुस्ती की मुख्य वजह घरेलू ही रही हैं।’ रिपोर्ट के मुताबिक, ऑटो और टूव्हीलर्स जैसे नॉन बैंकिंग फाइनेंशियल कंपनियों (एनबीएफसी) पर निर्भर क्षेत्रों में कर्ज में सख्ती देखने को मिल रही है, जिससे सेल्स में कमी आई है। फूड इनफ्लेशन स्थिर बनी हुई है, जबकि बीते साल यह निगेटिव रही थी। इससे किसानों की आय पर दबाव बढ़ा है।
 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन