Home » Economy » PolicyController General of Accounts released the data about Fiscal deficit

टैक्‍स कलेक्‍शन बढ़ने से मोदी सरकार को राहत, सुधरी फिस्‍कल डेफिसिट की स्थिति

जून 2018 में खत्‍म हुई तिमाही में सरकार की फिस्‍कल डेफिसिट की स्थिति में सुधार दर्ज किया गया है। बजट अनुमान की अपेक्षा इ

Controller General of Accounts released the data about Fiscal deficit
 
नई दिल्‍ली. जून 2018 में खत्‍म हुई तिमाही में सरकार की फिस्‍कल डेफिसिट की स्थिति में सुधार दर्ज किया गया है। बजट अनुमान की अपेक्षा इस तिमाही के दौरान 68.7 फीसदी फिस्‍कल डेफिसिट रहा, जबकि पिछले साल इसी तिमाही में यह आंकड़ा 80.8 फीसदी था। सरकार के राजस्‍व में सुधार के चलते फिस्‍कल डेफिसिट की स्थिति में यह सुधार नजर आया है। जारी आंकड़ों के अनुसार सरकार की आय और खर्च के बीच अभी भी 4.29 लाख करोड़ रुपए का अंतर है।
 
 

सरकार घटा रही है फिस्‍कल डेफिसिट

सरकार का चालू वित्‍तय वर्ष में फिस्‍कल डेफिसिट को घटा कर 3.3 फीसदी करने का है। वर्ष 2017-18 में यह 3.53 फीसदी रहा था। सरकार का चालू वित्‍तीय वर्ष के दौरान फिस्‍कल डेफिसिट का लक्ष्‍य 6.24 लाख करोड़ रुपए का है। फिस्‍कल डेफिसिट का मतलब सरकार के रेवेन्यू और खर्च का अंतर होता है।
 
 

CGA ने जारी किया डाटा

कंट्रोलर जनरल ऑफ एकाउंट्स (सीजीए) की तरफ से जारी आंकड़ों के अनुसार जून तिमाही में टैक्‍स कलेक्‍शन 2.37 लाख करोड़ रुपए रहा। यह बजट अनुमान का करीब 16 फीसदी है। वहीं सरकार का कुल रेवेन्‍यू 2.78 लाख करोड़ रुपए रहा, जो बजट अनुमान का 15.3 फीसदी है। पिछले साल पहली तिमाही में सरकार को बजट अनुमान के मुकाबले 13.1 फीसदी रेवेन्‍यू मिला था।
 
 

7 लाख करोड़ रु रहा खर्च

CGA की तरफ से जारी आंकड़ों के अनुसार जून तिमाही में सरकार का कुल खर्च 7.07 लाख करोड़ रुपए रहा। यह बजट अनुमान की तुलना में 29 फीसदी रहा। पिछले साल की तुलना में बजट अनुमान की अपेक्षा एक्‍सपेंडिचर में बढ़ोत्‍तरी दर्ज हुई है।
 

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट