Home » Economy » Policyवाई वी रेड्डी ने कहा कि किसान कर्ज माफी से बिगड़ता है क्रेडिट कल्‍चर - Y V Reddy said the practice is not good for

RBI के दो पूर्व गवर्नर्स ने किसान कर्ज माफी पर उठाए सवाल, कहा-इससे बिगड़ता है क्रेडिट कल्‍चर

RBI के दो पूर्व गवर्नर ने किसान कर्ज माफी की आलोचना की है।

1 of

 
नई दिल्‍ली. RBI के दो पूर्व गवर्नर ने किसान कर्ज माफी की आलोचना की है। पूर्व गवर्नर वाईवी रेड्डी ने कहा है कि किसानों का कर्ज माफ करना न तो अर्थव्‍यवस्‍था के लिए अच्‍छा है और न ही क्रेडिट कल्‍चर के लिए। उन्‍होंने कहा कि यह एक राजनैतिक फैसला है जिसे लम्‍बे समय में जस्‍टीफाइ नहीं किया जा सकता है। कुछ इसी तरह की राय पूर्व गवर्नर सी रंगराजन ने भी रखी है। रंगराजन ने कहा कि मदद इस तरह करनी चहिए, जिससे किसानों को लम्‍बे समय में फायदा हो। यह बातें इन लोगों ने इन्क्लूसिव फाइनेंस इंडिया समिट 2017 कार्यक्रम से इतर कहीं।
 
 
पूर्व गवर्नर रेड्डी ने कहा कि देश की सभी राजनैतिक पार्टियां किसानों को ऐसा ऑफर देती हैं। कुछ पार्टियां ऐसा राज्‍य के स्‍तर पर कर रही हैं तो कुछ देशव्‍यापी रूप से कर रही हैं। उन्‍होंने कहा कि किसानों की कर्ज माफी न ही अर्थव्‍यवस्‍था के लिए अच्‍छा है न ही देश के क्रेडिट कल्‍चर के लिए ही। उन्‍होंने कहा कि यह राजनैतिक फैसले होते हैं, जिन्‍हें जस्‍टीफाई नहीं किया जा सकता है।
 
रंगराजन ने भी रखी ऐसी ही राय
पूर्व गवर्नर रंगराजन ने भी ऐसी ही राय व्‍यक्‍त करते हुए कहा कि कार्ज माफी की जगह कुछ अन्‍य उपाए अपनाए जा सकते थ। इनमें किसानों को कर्ज पटाने के लिए ज्‍यादा समय दिया जा सकता था। इसके अलावा जिन सालों में किसानों को दिक्‍कत हुई हो उन सालों का ब्‍याज माफ किया जा सकता था। इसके अलावा किसानों को लोन को नए सिरे से तय किया जा सकता था। उन्‍होंने कहा कि अगर यह कदम कारगर नहीं होते तो कर्ज माफी जैसे कदम उठाए जा सकते थे।
 
गुजरात में राहुल ने दिया किसानों को कर्ज माफी का आश्‍वासन
गुजरात में चुनाव प्रचार के दौरान कांग्रेस के नेता राहुल गांधी ने किसानों को कर्ज माफी का अाश्‍वान दिया है। हाल ही में तीन राज्‍यों में किसानों के कर्ज माफ किए गए हैं। इनमें पंजाब, उत्‍तर प्रदेश और महाराष्‍ट्र शामिल हैं। इसी तरह का काम वर्ष 2008 में भी किया गया था। 2008 के दौरान इस पर सरकार को 74 हजार करोड़ रुपए खर्च करना पड़ा था।
 
 
 
prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट