बिज़नेस न्यूज़ » Economy » Policy7 महीने में मिलीं 39 लाख से ज्‍यादा जॉब, EPFO ने जारी किया डाटा

7 महीने में मिलीं 39 लाख से ज्‍यादा जॉब, EPFO ने जारी किया डाटा

बीते साल मार्च तक 7 महीने में 39.36 लाख नए जॉब्‍स क्रियेट हुए हैं।

1 of

 

नई दिल्‍ली. वित्त वर्ष 2017-18 के अंतिम 7 महीने में 39.36 लाख नई जॉब क्रिएट हुई हैं। EPFO की तरफ से जारी आंकड़ों में यह बात सामने आई है। इन आंकड़ों में क्रमशः फरवरी और मार्च में क्रिएट हुई 5.89 लाख और 6.13 लाख नई जॉब शामिल हैं। EPFO में इस वक्‍त करीब 6 करोड़ एक्टिव मेम्‍बर्स हैं।

 

 

एक्‍सपर्ट्स सर्विस सेगमेंट में मिले सबसे ज्‍यादा जॉब्‍स

EPFO की तरफ से जारी आंकड़ों के अनुसार सबसे ज्‍यादा जॉब्‍स सर्विस सेगमेंट में आई हैं। इसमें सभी उम्र और सभी ग्रप के लोग शामिल हैं। इस सेगमेंट में इलेक्ट्रिक, मैकेनिकल सहित जनरल इंजीनियंरिंग के बाद बिल्डिंग एंड कांस्‍ट्रक्‍शन इंडस्‍ट्री में जॉब्‍स मिले हैं। इसके बाद ट्रेडिंग एंड कमर्शियल इस्टैब्लिश्मन्ट और फिर टेक्‍सटाइल्‍स का नम्‍बर है।

 

 

आधे से ज्‍यादा जॉब्‍स ऑर्गनाइज सेक्‍टर में आए

आंकड़ों के अनुसार आधे से ज्‍यादा जॉब्‍स ऑर्गनाइज सेक्‍टर में आए हैं। महाराष्‍ट्र, तमिलनाडु और गुजरात में पिछले सात महीनों के दौरान सबसे ज्‍यादा जॉब्‍स मिले हैं।

 

 

पिछले महीने भी जारी हुआ था डाटा

EPFO ने पिछले माह भी डाटा जारी किया था। उस दौरान कुछ जानकारों ने जॉब्‍स क्रिएशन के आंकड़ों पर सवाल उठाए थे। उन लोगों का कहना था कि यह डाटा, जॉब्‍स क्रिएशन की सही तस्‍वीर नहीं पेश कर रहा है, क्‍योंकि इसमें जॉब्‍स चेंज करने वालों को भी शामिल किया गया है।

 

 

अस्‍थाई है डाटा

EPFO ने डाटा जारी करते हुए साइट पर बताया है कि हाल ही महीनों के ये आंकड़े अस्‍थायी हैं, जो आगे अपडेट किए जाएंगे। इन आंकड़ों को कर्मचारी के रिकॉर्ड से अं‍तिम मिलान के बाद अपडेट किया जाएगा। EPFO ने कहा है कि उम्र के हिसाब से यह डाटा तैयार किया है। इसमें उन सभी को शामिल किया गया है जो नॉन जीरो कंट्रीब्‍यूटर्स हैं और EPFO में समीक्षा अवधि के दौरान रजिस्‍टर्ड हुए हैं।

 

 
prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट