Home » Economy » PolicyDo not keep currency notes in Pocket as it leads to TB, ulcer and septicemia diseases

पॉकेट में नोट लेकर मत चलें, हो सकती हैं टीबी, अल्सर एवं सेप्टीसीमिया जैसी बीमारियां

नोट है स्वास्थ्य के लिए घातक, वित्त मंत्री से जांच कराने की मांग

Do not keep currency notes in Pocket as it leads to TB, ulcer and septicemia diseases

नई दिल्ली।  करेंसी नोट रखकर क्या आप अपनी पॉकेट में बीमारी लेकर चल रहे हैं। आपको यकीन नहीं होगा। लेकिन हाल ही की एक रिपोर्ट में करेंसी नोट से कई प्रकार की गंभीर बीमारी होने का पता चला है। इनमें टीबी, अल्सर, सेप्टीसीमिया एवं कीटाणु से फैलने वाली अन्य बीमारियां शामिल हैं। रिपोर्ट के मुताबिक करेंसी नोटों से 78 प्रकार की बीमारी होने का खतरा होता है। इस मामले में व्यापारियों ने वित्त मंत्री से सफाई पेश करने की मांग की है।


किसकी है रिपोर्ट

 

करेंसी नोटों से होने वाली गंभीर बीमारियों का खुलासा इंस्टीट्यूट ऑफ जेनोमिक्स एंड इंटिग्रेटिव बॉयोलॉजी (आईजीआईबी) की रिपोर्ट में किया गया है। यह इंस्टीट्यूट काउंसिल ऑफ साइंटिफिक एंड इंडस्ट्रीयल रिसर्च (सीएसआईआर) के अधीन काम करती है। रिपोर्ट में कहा गया है कि कीटाणु करेंसी नोटों के जरिए एक जगह से दूसरी जगह पर पहुंचते रहते है, जो अपने साथ विभिन्न प्रकार की खतरनाक बीमारियां लाते हैं। ऐसा ही एक खुलासा माइक्रोबायोलॉजी एंड अप्लायड साइंस की रिपोर्ट में 2016 में भी किया गया था। इस रिपोर्ट को तमिलनाडु के तिरुनेलवेली मेडिकल कॉलेज में किए गए शोध के आधार पर तैयार किया गया था। शोध के दौरान 120 करेंसी नोट की जांच की गई। इनमें से 86.4 फीसदी नोट कीटाणु वाले पाए गए जिससे बीमारी फैलने की आशंका थी। ये नोट व्यापारी, डॉक्टर, छात्र-छात्र एवं घरेलू महिलाओं से लिए गए थे।

 

कैट ने वित्त मंत्री से तस्वीर साफ करने की मांग की

 

कनफेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं राष्ट्रीय महामंत्री प्रवीन खंडेलवाल ने इस मामले में वित्त मंत्री अरुण जेटली को पत्र लिखा है। कैट ने वित्त मंत्री से कहा है कि करेंसी का सबसे अधिक इस्तेमाल व्यापारी करते हैं। ऐसे में रिपोर्ट के मुताबिक सबसे अधिक व्यापारी वर्ग के बीमार होने की आशंका है। खंडेलवाल ने बताया कि उन्होंने वित्त मंत्री एवं स्वास्थ्य मंत्री से इस मामले में सरकार की तरफ से बचाव के उपाय करने की मांग की है।   

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट