Home » Economy » Policycourt asks CBI not to take coercive action vs P Chidambaram

एयरसेल-मैक्सिस मामले में चिदंबरम को कोर्ट से राहत, 7 अगस्त तक नहीं होगी गिरफ्तारी

पूर्व वित्त मंत्री और कांग्रेस लीडर P Chidambaram को Aircel-Maxis मामले में बड़ी राहत मिली।

court asks CBI not to take coercive action vs P Chidambaram

नई दिल्ली. पूर्व वित्त मंत्री और कांग्रेस लीडर P. Chidambaram को Aircel-Maxis मामले में बड़ी राहत मिली। पटिलाया हाउस कोर्ट ने सोमवार को चिदंबरम को 7 अगस्त तक के लिए गिरफ्तारी से अंतरिम रोक लगा दी है। कोर्ट ने केंद्रीय जांच एचेंजी CBI से कहा कि चिदंबरम के खिलाफ 7 अगस्त तक गिरफ्तारी जैसी कोई कार्रवाई नहीं की जाए। पूर्व वित्त मंत्री अग्रिम जमानत के लिए पटियाला कोर्ट पहुंचे थे।

 

 

कार्ति को विदेश जाने की मिली अनुमति

सीबीआई ने चिदंबरम और उनके बेटे कार्ति चिदंबरम का नाम एयरसेल-मैक्सिस डील मामले में दायर आरोप पत्र में शामिल किया है। उन दोनों पर आपराधिक साजिश और गबन का आरोप लगाया गया है।  इस बीच, सुप्रीम कोर्ट ने कार्ति चिदंबरम को 23 से 31 जुलाई तक ब्रिटेन, फ्रांस और अमेरिका जाने की अनुमति दे दी।

 

चिदंबरम-कार्ति को बनाया गया है आरोपी

जांच एजेंसी ने विशेष सीबीआई जज ओपी सैनी के सामने पूरक आरोप पत्र दायर किया जिस पर 31 जुलाई को विचार किया जाएगा। सीबीआई ने चिदंबरम और कार्ति के अलावा कुछ अफसरों सहित 10 लोगों और 6 कंपनियों को आरोपी बनाया है।

  

सात साल तक की हो सकती है सजा

आईपीसी के तहत आपराधिक साजिश से जुड़ी धारा और भ्रष्टाचार निरोधक अधिनियम के तहत रिश्वत लेने, इस अपराध के लिए उकसाने और गबन से जुड़ी धाराओं में आरोप पत्र दायर किया गया है। अगर इन अपराधों में दोष साबित हो जाता है तो आरोपियों को सात साल तक की सजा हो सकती है। सूत्रों के मुताबिक, सीबीआई को अफसरों के खिलाफ मुकदमे की इजाजत नहीं मिली है।

 

ED ने किया था जमानत का विरोध

बीती 10 जुलाई को एन्फोर्समेंट डायरेक्टोरेट (ईडी) ने अपने एक विस्तृत जवाब में कहा था कि चिदंबरम को जमानत देना उचित नहीं है, क्योंकि इससे सच्चाई तक पहुंचने में दिक्कतें आएंगी। आईएनएक्स से जुड़ी कथित धांधली साल 2007 में हुई थीं, जब चिदंबरम यूपीए-1 सरकार में वित्त मंत्री थे। इससे पहले सीबीआई ने चिदंबरम के बेटे कार्ति चिदंबरम को फॉरेन इनवेस्टमेंट प्रमोशन बोर्ड (एफआईपीबी) से आईएनएक्स मीडिया को क्लीरेंस देने के आरोप में गिरफ्तार किया था।



ये भी पढ़ें... कंपनी को नहीं दिया था रेंट प्रूफ तो ITR फाइल करके HRA पर ले सकते हैं रिफंड

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट