Home » Economy » PolicyCabinet OKs differential pricing for ethanol sold to oil cos 2018-19

क्वालिटी के आधार पर अब अलग-अलग कीमत पर बिकेगा एथेनॉल, कैबिनेट ने दी मंजूरी

सरकार ने पहली बार एथेनॉल की अलग-अलग कीमतों को मंजूरी दे दी है।

Cabinet OKs differential pricing for ethanol sold to oil cos 2018-19

 

नई दिल्ली. सरकार ने पहली बार इंडस्ट्री द्वारा इस्तेमाल किए जाने वाले शीरे की गुणवत्ता के आधार पर एथेनॉल की अलग-अलग कीमतों को मंजूरी दे दी है। इसका मतलब है कि अब ऑयल मिनिस्ट्री गन्ने के फेयर प्राइस के क्रम में एथेनॉल की कीमतों में बदलाव कर सकती है। तेल कंपनियों को एथेनॉल के लिए मिलों को जीएसटी और ट्रांसपोर्ट चार्जेस का भुगतान भी करना होगा।

 

क्वालिटी के आधार बिकेगा एथेनॉल

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में बुधवार को हुई कैबिनेट मीटिंग में वित्त वर्ष 2018-19 के लिए एथेनॉल की अलग-अलग कीमतों को मंजूरी दे दी है। इसके तहत बी-हैवी शीरे से बनने वाल एथेनॉल की कीमत 47.49 रुपए प्रति लीटर होगी। बी-हैवी कैटेगरी के शीरे को सीधे गन्ने से बनाया जाता है और उसमें चीना का ज्यादा कंटेंट होता है। सी-हैवी शीरे से बनने वाले एथेनॉल के लिए 43.70 रुपए प्रति लीटर कीमत को मंजूरी दी गई है। शीरा, गन्ने की पेराई से बनने वाला एक बाय-प्रोडक्ट है, जिसकी बड़ी मात्रा में चीनी मिलों द्वारा बिक्री की जाती है।

चीनी मिलें वर्तमान में सरकार द्वारा तय 40.85 रुपए प्रति लीटर कीमत पर ऑयल मार्केटिंग कंपनियों को एथेनॉल की बिक्री करती हैं, जिस पर जीएसटी अलग से लगता है।

 


एमएसएमई एक्सपोर्ट को बढ़ावा देने के लिए पहल

इसके अलावा कैबिनेट ने माइक्रो, स्माल, मीडियम एंटरप्राइजेज एक्सपोर्ट्स के वास्ते इन्श्योरेंस कवरेज बढ़ाने के लिए एक्सपोर्ट क्रेडिट गारंटी कॉरपोरेशन (ईसीजीसी) में 2,000 करोड़ रुपए के कैपिटल इनफ्यूजन को मंजूरी देदी है। इसके साथ ही प्रोजेक्ट एक्सपोर्ट्स को बढ़ावा देने के लिए नेशनल एक्सपोर्ट इन्श्योरेंस अकाउंट ट्रस्ट (एनईआईए) को 1,040 करोड़ रुपए की ग्रांट के अंशदान को भी मंजूरी दे दी है।

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट