Home » Economy » Policyproject being implemented by Bharat Sanchar Nigam Limited

सेना के लिए तैयार हो रहे नेटवर्क का बढ़ाया गया बजट, कैबिनेट ने दी मंजूरी

कैबिनेट में सेना के लिए तैयार किए जा रहे नेटवर्क फॉर स्‍पैक्‍ट्रम (NFS) के बजट को बढ़ाने की मंजूरी दी गई है।

1 of


नई दिल्‍ली. प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र माेदी की अध्‍यक्षता में आयोजित कैबिनेट कमेटी ऑन इकोनामिक अफेयर्स की मीटिंग में सेना के तैयार किए जा रहे नेटवर्क फॉर स्‍पैक्‍ट्रम (NFS) के बजट को बढ़ाने की मंजूरी दी गई है। इस मीटिंग में इसके लिए 11,330 करोड़ रुपए का प्रस्‍ताव लाया गया था, जिसे पास कर दिया गया। मोबाइल कंपनियों के लिए स्‍पैक्‍ट्रम छोड़ने के एवज में सेना के लिए यह नेटवर्क तैयार किया जा रहा है। इस प्रोजेक्‍ट के लिए इससे पहले 13334 करोड़ रुपए जुलाई 2012 में पहले ही पास किया गया था, जिसको बढ़ाने का प्रस्‍ताव अाया था। 

 

 

BSNL तैयार कर रहा है नेटवर्क

सेना के लिए यह नेटवर्क भारत संचार निगम लिमिटेड (BSNL) तैयार कर रहा है। उम्‍मीद है कि यह अगले 24 महीने में तैयार हो जाएगा। इस प्रोजेक्‍ट के पूरा होने के बाद सेना सेना की कंम्‍युनिकेशन की क्षमता काफी बढ़ जाएगी। 

 

2012 में पास हुआ था 13334 करोड़ रुपए का प्रस्‍ताव

2012 में सेना के लिए विशेष नेटवर्क बनाने के लिए 13334 करोड़ रुपए का प्रस्‍ताव पास किया गया था। फिर इस प्रोजेक्‍ट को पूरा करने के लिए डिपार्टमेंट ऑफ टेलीकॉम (डॉट) को कहा गया था। 

 


डिफेंस मिनिस्‍ट्री और डॉट के बीच हुआ था समझौता

इससे पहले डिफेंस मिनिस्‍ट्री और डॉट के बीच 2009-10 में एक समझौता हुआ था। इसके तहत सेना ने 3G स्‍पैक्‍ट्रम के लिए 25 मेगाहर्ट्स और 2G के लिए 20 मेगा हर्ट्स स्‍पैक्‍ट्रम खाली किया था। इसके बदले में ही सेना के लिए विशेष कंम्‍युनिकेशन नेटवर्क तैयार किया जाना था।

 

 

सेना चाहती है अत्‍याधुनिक नेटवर्क

सूत्रों के अनुसार इंटर मिनिस्‍ट्रीलिय ग्रुप ने सेना के लिए जिस नेटवर्क को मंजूरी दी थी वह काफी कम स्‍पेसिफिकेशन का था, लेकिन सेना चाहती है कि उसे अत्‍याधुनिक नेटवर्क मिले। सेना चाहती है उसे OFC नेटवर्क मिले जो आयरन के कवर में हो। सेना का कहना है इससे नेटवर्क ज्‍यादा सुरक्षित रहेगा।

 

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट