Home » Economy » PolicyAdani, Total join hands to set up retail network, LNG terminal

1500 सीएनजी स्टेशन शुरू करेगा अडानी ग्रुप, फ्रांस की कंपनी से किया करार

दुनिया की दूसरी बड़ी एलएनजी कंपनी है टोटल

Adani, Total join hands to set up retail network, LNG terminal

 

नई दिल्ली. भारत के सबसे बड़े इन्फ्रास्ट्रक्चर ग्रुप Adani Group और फ्रांस की एनर्जी कंपनी टोटल एसए (Total SA) ने भारत में लिक्विफाइड नैचुरल गैस (LNG) इंपोर्ट टर्मिनल्स और फ्यूल रिटेलिंग नेटवर्क विकसित करने के लिए समझौता किया है। इस समझौते के तहत दोनों कारोबारी समूह देश में 10 साल के भीतर 1500 आउटलेट्स यानी सीएनजी स्टेशन स्थापित करेंगे।   

टोटल ने कुछ हफ्ते पहले ही रॉयल डच शेल की अगुआई में गुजरात में बन रहे एलएनजी टर्मिनल से अलग होने का ऐलान किया है। यह कंपनी अब ओडिशा के धमारा में साना 50 लाख टन क्षमता वाली इंपोर्ट फैसिलिटी विकसित करने के लिए अडानी ग्रुप से हाथ मिलाएगी।

 

 

10 साल में 1500 आउटलेट स्थापित करने की योजना

अडानी और टोटल ने संयुक्त रूप से जारी बयान में कहा कि दोनों कंपनियां 10 साल के दौरान देश भर में 1500 आउटलेट्स की स्थापना करेगी, जिनमें से अधिकांश हाईवेज पर होंगे। हालांकि दोनों कंपनियों ने यह साफ नहीं किया कि इस डील के माध्यम से टोटल कितनी हिस्सेदारी खरीदेगी, लेकिन एक सूत्र ने कहा कि यह एक शुरुआती समझौता है और जल्द ही इसकी डिटेल्स जारी की जाएंगी।

 

 

सिटी गैस डिस्ट्रीब्यूशन प्रोजेक्ट्स में भी हिस्सेदारी लेगी टोटल

वहीं टोटल, अडानी के सिटी गैस डिस्ट्रीब्यूशन (CGD) प्रोजेक्ट में भी हिस्सेदारी लेने पर भी विचार कर रही है, लेकिन वैल्युएशन को लेकर बातचीत अभी भी जारी है।

बयान में कहा गया, ‘अडानी और टोटल ने भारतीय एनर्जी मार्केट में मल्टी एनर्जी ऑफरिंग्स संयुक्त रूप से विकसित करने के लिए समझौता किया है। इस डायवर्सिफाइड पोर्टफोलियो में एलएनजी और फ्यूल रिटेल भी शामिल हैं।’

 

 

दुनिया की दूसरी बड़ी एलएनजी कंपनी है टोटल

टोटल दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी प्राइवेट एलएनजी कंपनी है और 11 अरब डॉलर का अडानी ग्रुप एनर्जी, इन्फ्रास्ट्रक्चर, पोर्ट्स और इडिबल ऑयल जैसे सेक्टर्स में एक्टिव है। बयान में कहा गया, ‘दोनों ग्रुप तेजी से उभरते भारतीय बाजार में अपनी सेवाएं देेंगे।’

बयान के मुताबिक, ‘पार्टनरशिप के माध्यम से भारत के पूर्वी तट पर स्थित धमारा एलएनजी टर्मिनल सहित कई रिगैसिफिकेशन टर्मिनल विकसित करने का भी लक्ष्य है। यह एलएनजी को बढ़ावा देकर बेहतर ऊर्जा मिश्रण हासिल करने के भारत के लक्ष्य की दिशा में एक बड़ा कदम साबित होगा।’

 

 

ज्वाइंट वेंचर बनाएंगे दोनों ग्रुप

इसके अलावा 10 साल के दौरान 1,500 सर्विस स्टेशन के रिटेल नेटवर्क को बनाने के लिए ज्वाइंट वेंचर भी स्थापित किया जाएगा, जो मुख्य रूप से हाईवेज और इंटरसिटी कनेक्शंस पर होंगे। रोड इन्फ्रास्ट्रक्चर के विकास और मध्यम वर्ग के विस्तार के चलते यह मार्केट 4 फीसदी प्रति वर्ष की दर से आगे बढ़ रहा है।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट