विज्ञापन
Home » Economy » PolicyYou can earn lots of money by taking kadhi franchise

खादी इंडिया दे रहा है फ्रेंचाइजी का मौका, हर महीने आप भी कमा सकते हैं लाखों रुपए

फ्रेंचाइजी लेने के लिए मानने होंगे ये नियम और शर्तें

1 of

 

नई दिल्ली। यदि आप भी अपना कारोबार शुरू करने की सोच रहे हैं तो यह खबर आपके लिए काफी फायदेमंद साबित हो सकती है। आप भी बड़ी कंपनी की फ्रेंचाइजी खोलकर हर महीने लाखों रुपए कमा सकते हैं। आज हम आपको एक बिजनेस के बारे में बताने जा रहे हैं, जिसकी फ्रेंचाइजी लेकर आप हर महीने लाखों रुपए तक कमा सकते हैं। 

 

खादी दे रहा है फ्रेंचाइजी का मौका

देश की सबसे बड़ी खादी इंडिया देशभर के लोगों को फ्रेंचाइजी खोलने का मौका दे रहा है। खादी के अनुसार, देश का कोई भी व्यक्ति उसकी फ्रेंचाइजी लेकर अपना कारोबरा शुरू कर सकता है। इस स्कीम के चलते लोगों को अपनी दुकानों और शोरूम में खादी के सामान रखने होंगे। इसके अलावा व्यक्ति को अपनी दुकान या शोरूम के बाहर खादी का लोगों लगाना होगा। इसमें लोगों को खादी के सभी सामान को बेचना होगा।  इस प्रणाली के चलते खादी और ग्रामोद्योग आयोग बड़ी संख्या में खादी के उत्पाद को लोगों को पहुंचाना चाहता है।  

 

बहुत से सुपर मार्केट और डिपार्टमेंटल स्टोर खादी के काउंटर खोलने में अपनी रूचि दिखा रहे हैं। कॉयर बोर्ड ऑफ इंडिया TRYFED जैसे संगठन ने KVI बिक्री आउटलेट के माध्यम से कॉयर और अन्य समान उत्पादों के विपणन के लिए रुचि व्यक्त की है। यदि आप भा खादी का फ्रेंचाइजी लेना चाहते हैं तो आप इसकी आधिकारिक वेबसाइट http://www.kvic.org.in/kvicres/index.php पर जाकर अधिक जानकारी ले सकते हैं। 

नियम और शर्तें

एप्लीकेशन फॉर्म- खादी ग्रामउद्योग की फ्रेंचाइजी लेने के लिए आवेदक को इससे संबंधित एक फॉर्म भरना पड़ेगा जिसकी कीमत 250 रुपए होगी।

रजिस्ट्रेशन फीस- योग्य उम्मीदवारों को पंजीकरण फीस के तौर पर 1000 रुपए की राशि जमा करानी पड़ेगी।

वैधता अवधि- आवेदकों को 1 साल के लिए फ्रेंचाइजी दी जाएगी। 1 साल के बाद आवेदकों को इसे रिन्यू कराना होगा। 

सेल्स टारगेट- फ्रेंचाइजी के तहत हर एरिया और लोकेशन के हिसाब से आवेदकों को खादी का सामान बेचने का अलग-अलग टारगेट दिया जाएगा। 

एजेंसी कमीशन- फ्रेंचाइजी या डीलरशिप लेने वालों के हेंडीक्राफ्ट सामान पर अधिकतम 20 फीसदी का कमीशन दिया जाएगा। डिजाइनर कपड़ों के मामले में कमीशन उत्पाद पर निर्भर करेगा। खादी के सामान पर कोई छूट नहीं दी जाएगी।

 

मार्केटिंग स्ट्रैटेजी और पब्लिसिटी मेजर्स के तौर पर कमीशन हर साल खादी के सामान के प्रदर्शनी के लिए फंड इकट्ठा करती है। इससे खादी की ब्रिक्री में निरंतर बढ़ोतरी हो रही है। 1990 में खादी और ग्रामोद्योग आयोग ने खादी के उत्पादों की मार्केटिंग के लिए खादी एक्सपो और राज्य स्तर पर प्रदर्शनी की एक स्कीम तैयार की थी। इन योजनाओं की समीक्षा करने और मार्केटिंग प्रयासों को एक बड़ा मौका देने की जरूरत के मद्देनजर, इस योजना को संशोधित किया गया है।

 

खादी का उद्देश्य


राष्ट्रीय स्तर की प्रदर्शनी, आंचलिक स्तर की प्रदर्शनी, राज्य स्तरीय प्रदर्शनी, जिला स्तरीय प्रदर्शनी आदि का आयोजन निम्नलिखित उद्देश्यों को प्राप्त करने के लिए किया जाएगा।

1. खादी, विलेज इंडस्ट्री उत्पाद और हस्तशिल्प उद्योग को बढ़ावा देना और बिक्री की बढ़ावा देने के लिए मार्केटिंग में सहायता करना। 

2. ग्राहकों को खादी और हस्तशिल्प का सामान खरीदने के लिए राजी करना। 

3. ग्राहकों को खादी के लेटेस्ट डिडाइन और उत्पादों के प्रति जागरूक करना। 

4. प्राकृतिक आपदाओं, भूकंप, चक्रवात, बाढ़ आदि से प्रभावित क्षेत्रों में संस्थानों / कारीगरों की मदद करना।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन