Advertisement
Home » Economy » PolicyWPI inflation hits 10-month low, drops to 2.76 percent in January

जनवरी में थोक महंगाई घटकर 2.76 फीसदी, दस माह बाद सबसे निचले स्तर पर

फलों और सब्जियों के दामों में गिरावट से WPI में राहत

WPI inflation hits 10-month low, drops to 2.76 percent in January

नई दिल्ली। देश की थोक कीमतों पर आधारित सालाना महंगाई दर (WPI) जनवरी 2019 में घटकर 2.76 फीसदी हो गई। यह साल 2018 के इसी महीने में 3.02 फीसदी थी। सरकारी की ओर से जारी आंकड़ों के अनुसार, बीते कुछ महीनों में तेल और खाद्य पदार्थों की कीमतों में नरमी के कारण महंगाई दर में गिरावट दर्ज की गई है। 

 

दस माह बाद सबसे निचले स्तर पर 
सरकार की ओर से जारी आंकड़ों के अनुसार, बीते साल दिसंबर 2018 में थोक महंगाई दर (WPI) 3.8 फीसदी थी, जबकि जनवरी 2018 में यह 3.02 फीसदी थी। मार्च 2018 में थोक महंगाई दर 2.74 फीसदी रही थी। आंकड़ों के अनुसार, मार्च 2018 के बाद थोक महंगाई दर 2.76 फीसदी पर आई है। इसे पिछले दस माह का सबसे निचला स्तर बताया जा रहा है। सरकार की ओर से जारी आंकड़ों में कहा गया है कि आलू, प्याज, फल और दूध की कीमतों में बीते महीनों के मुकाबले गिरावट दर्ज की गई है। 

 

खुदरा महंगाई में भी रही थी गिरावट
सरकारी आंकड़ों के अनुसार, जनवरी माह में खाद्य पदार्थों की थोक कीमतों में 2.34 फीसदी की तेजी दर्ज की गई है। इसके बावजूद बीते महीने के मुकाबले थोक महंगाई दर में 0.07 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई है। रिपोर्ट के अनुसार, बीते कई महीनों से सब्जियों, अंडा समेत खाद्य पदार्थों की कीमतों में गिरावट के कारण बीते सप्ताह जारी हुई खुदरा महंगाई दर में भी गिरावट दर्ज की गई थी। तेल और जनवरी माह में ऊर्जा क्षेत्र में थोक आधार पर 1.85 फीसदी की तेज गिरावट दर्ज की गई है। जानकारों का कहना है कि थोक महंगाई दर में गिरावट के कारण आने वाले दिनों में बैंकों को ब्याज दर में कटौती करने में भी सहायक होगी। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
Advertisement