बिज़नेस न्यूज़ » Economy » Policyमुंबई किसान आंदोलन के पीछे ये 3 चेहरे, एक इशारे में ठप हुई आर्थिक राजधानी

मुंबई किसान आंदोलन के पीछे ये 3 चेहरे, एक इशारे में ठप हुई आर्थिक राजधानी

करीब एक हफ्ते का लंबा मार्च तय करके मुंबई आए किसानों भले ही संख्‍या में 40 हजार हों, लेकिन इसके पीछे 3 बड़े चहरे हैं....

1 of

 

नई दिल्‍ली। कर्जमाफी तथा स्वामीनाथन आयोग की सिफारिशों को लागू करने की मांग को लेकर एक तरफ मुंबई पहुंचे 40 हजारों किसानों को लेकर महाराष्ट्र से लेकर दिल्ली तक सियासत भी तेज हो चुका है। महाराष्ट्र में सभी गैर-बीजेपी दल किसान आंदोलन को समर्थन का ऐलान कर चुके हैं। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने इसे महज एक राज्‍य नहीं बल्कि पूरे देश के किसानों का आंदोलन करार दिया है। 

करीब एक हफ्ते का लंबा मार्च तय करके मुंबई आए किसानों भले ही संख्‍या में 40 हजार हों, लेकिन इसके पीछे 3 बड़े चहरे हैं। इन्‍हीं तीनों चहरों की बिछाई बिसात पर इस आंदोलत ने अपनी शक्‍ल ली और पूरे देश की मीडिया के बीच सुर्खिंयों में आया। आइए जानते हैं इन्‍हीं तीनों चेहरों के बारे में और आखिर कैसे इन लोगों ने नासिक से कुछ हजार किसानों को लेकर करावां शुरू किया, जो मुंबई पहुंचते पहंचते करीब 40 हजार हो गया।   

 

इनपुट: हिंदुस्‍तान टाइम्‍स, मीडिया रिपोर्ट  

 

आगे पढ़ें- पहले चेहरेे के बारे में   

नंबर-1: जीवा पांडू गोवित 
पहचान:CPI(M) नेता और कालवां (नासिक )के विधायक 
रोल: आंदोलन के मास्‍टर माइंड।  

 

हार्ड फैक्‍ट 

जीवा पांडु गोवित या JP गोवित महाराष्‍ट्र विधानसभा में एक मात्र कम्‍यूनिस्‍ट विधायक। 7 बार से विधायक लेकिन बेहद लो प्रोफाइल। जनजाजतीय समुदाय से आते हैं। महाराष्‍ट्र की जनजातियों को इस किसान आंदोलने से जोड़ने का  गोवित ने ही किया।   

 

 

आगे पढ़ें- एक और चेहरेे के बारे में    

 

 

नंबर-2: डॉक्‍टर अशोक धावले 
पहचान:  कम्‍यूनिस्‍ट पार्टी से जुड़ी अखिल भारतीय किसान सभा के अध्‍यक्ष 
रोल:  पूरे आंदोलन का मुख्‍य चेहरा। किसानों की ओर से वार्ताकार भी 

 

हार्ड फैक्‍ट 

बेजोड़ संगठन क्षमता। थाणे और आसपास के इलाके में कम्‍यूनिस्‍ट आंदोलन के साथ लंबे समय से सक्रिय। अखिल भारतीय किसान सभा के अध्‍यक्ष बनने वाले महाराष्‍ट्र के तीसरे कम्‍यूनिस्‍ट लीडर। आंदोलन के लिए किसानों को संगठित करने का काम किया। मुंबई नागपुर एक्‍सप्रेस वे के अधिग्रहण के विरोध के नेतृत्‍वकर्ता।  

   

आगे पढ़ें- एक और चेहरेे के बारे में  

 

नंबर-3:  अजीत नवाले 
पहचान:  अखिल भारतीय किसान सभा के अध्‍यक्ष के स्‍टेट सेक्रेटरी 
रोल:  पूरे आंदोलन का मैनेजमेंट करना। 

 

हार्ड फैक्‍ट 

लंबे समय से महाराष्‍ट्र में किसानों का अहम चेहरा। 2017 में राज्‍य में एक बड़े आंदोलन को अंजाम दिया, इसी के बाद फडणवीस सरकार किसानों के लिए कर्ज माफी की घोषणा करने को मजबूर हुई। मोदी सरकार की फसल बीमा योजना का विरोध करने वाले किसान नेताओं में अजीत प्रमुख नाम। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट