बिज़नेस न्यूज़ » Economy » Policyश्रीदेवी के चलते अमेरिका को बदलना पड़ा कानून, हुआ था लाखों का सेटलमेंट

श्रीदेवी के चलते अमेरिका को बदलना पड़ा कानून, हुआ था लाखों का सेटलमेंट

श्रीदेवी के चलते कभी अमेरिका को अपना कानून बदलना पड़ा था। यह मामला 1996 का है....

1 of

नई दिल्‍ली। कई मामलों में देखा जाए तो श्रीदेवी का जीवन आम अभिनेत्रियों से अलग रहा। उनके स्टारडम का रुतबा ऐसा था कि वह अपने दौर की लेडी अमिताभ तक कही गईं। बेहद कम लोगों को पता होगा, लेकिन श्रीदेवी के चलते कभी अमेरिका को अपना कानून बदलना पड़ा था। यह मामला 1996 का है। उस समय अमेरिका में बिल क्लिंटन की सरकार थी। बाद में मामला लाखों डॉलर में सेटल हुआ था। आइए जानते हैं पूरी स्‍टोरी.. 

 

मां का ऑपरेशन बना था वजह 
बताते हैं कि श्रीदेवी के पिता की मौत 1991 में हो गई थी। उस वक्‍त वह यश चोपड़ा की फिल्‍म लम्‍हे के लिए शूटिंग कर रहीं थीं। 1997 में श्रीदेवी की मां राजेश्‍वरी अयप्‍पन की मौत हुई। उनकी मां की मौत एक हादसे में हुई। इस हादसे ने अमेरिका को हिला कर रखा दिया था। हुआ दरअसल यूं कि श्रीदेवी की मां राजेश्‍वरी अयप्‍पन के सिर में ब्रेन ट्यूमर था। श्रीदेवी उस समय बड़ी स्‍टार थीं। इसलिए तय हुआ कि मां का इलाज भारत की बजाय अमेरिका के न्‍यूयॉर्क स्थित मेमोरियल स्‍लोन केटरिंग कैंसर सेंटर में कराया जाए। उम्‍मीद थी कि दुनिया के सबसे एडवांस देश में ब्रेन ट्यूमर का ऑपरेशन हंसते खेलते हो जाएगा और मां आसानी से ठीक हो जाएगीं, लेकिन श्रीदेवी का सोचना गलत था। 

 

सोर्स: rediff.com  

डॉक्‍टरों ने कर दिया गलत ऑपरेशन 
जैसा ऊपर कहा गया है कि श्रीदेवी बेहतरीन इलाज के लिए अमेरिका में मां का ऑपेरशन करा रही थीं, लेकिन नियति को कुछ और मंजूर था। मेमोरियल स्‍लोन केटरिंग कैंसर सेंटर के सबसे काबिल डॉक्‍टर डी ह्यूड ऑर्बिट ने ऐसी बचकानी भूल की, जो श्रीदेवी की मां की मौत का कारण बन गई। डॉक्‍टर ऑर्बिट ने ब्रेन के उस हिस्‍से का ऑपेरशन कर दिया, जहां ट्यूमर था ही नहीं। इसके चलते राजेश्‍वरी की आंखों की रोशनी और याददाश्‍त दोनों चली गईं। नतीजा यह हुआ कि एक साल बाद 1997 में राजेश्‍वरी अयप्‍पन ने दम तोड़ दिया। 

 

 

खबर अमेरिकी मीडिया की सुर्खियां बन गई 
आम तौर पर हम भारत जैसे देशों में सुनते हैं कि डॉक्‍टर मरीज के शरीर में तौलिया, कैंची या ऑपरेशन से जुड़ी कोई और चीज छोड़ देते हैं। लेकिन अमेरिका में भी इतनी बड़ी गलती हुई। अमेरिकी मीडिया को यह बात पता चली तो उसने इसे हाथों हाथ लिया। उस दौर में सभी बड़े अमेरिकी मीडिया हाउस ने इस घटना को डॉक्‍टर की घोर लापरवाही करार दिया। USA Today जैसे नामचीन अखबार ने लंबे समय तक इस स्‍टोरी का फॉलोअप तक किया। 


 

क्लिंटन को बदलना पड़ा कानून 
श्रीदेवी की मां की मौत के बाद अमेरिकी सरकार भी जागी। तत्‍कालीन राष्‍ट्रपति बिल क्लिंटन को एक प्रस्‍ताव लाना पड़ा। इस प्रस्‍ताव में यह जरूरी किया गया कि हर हॉस्पिटल इस बात का खुलासा करेगा कि मेडिकल गलती के चलते आखिर उसके यहां कितनी मौतें हुईं। इस प्रस्‍ताव के एक साल बाद इन्‍स्‍टीट्यूट ऑफ मेडिकल स्‍टडी की रिपोर्ट में बताया गया कि अमेरिका में उस समय करीब 44 से 98 हजार लोग डॉक्‍टरों की गलती से मर रहे थे। हालांकि श्रीदेवी की मां का गलत ऑपरेशन करने वाले डॉक्‍टर को किसी तरह की सजा नहीं हो पाई। 

 

 

फैमिली ने कर लिया सेटलमेंट 
राजेश्‍वरी अयप्‍पन की मौत के बाद यह मामला कोर्ट पहुंच गया। बाद में हॉस्पिटल और श्रीदेवी के परिवार के बीच लाखों डॉलर का सेटलमेंट हो गया। ऑर्बिट की हॉस्पिटल से छुट्टी कर दी गई। बताया जाता है कि बाद में जहां उन्‍होंने अस्‍पताल में प्रैक्टिस शुरू की वहां भी उनकी लापरवाही से एक मरीज की मौत हो गई। इसके बाद उनसे प्रैक्टिस नहीं करने को कहा गया।  

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट