Home » Economy » PolicyVisiting Jaisalmer in Winter Desert Safari

विंटर में 2,100 रुपए में ले सकते हैं डेजर्ट सफारी का मजा

किले की सैर के साथ चटपटे व्यंजन खाने का भी मौका

1 of

नई दिल्ली.   नवंबर-दिसंबर के दौरान जोधपुर-जैसलमेर घूमने के लिए सबसे बढ़िया वक्त है क्योंकि इस वक्त न तो सूरज की तेज़ तपिश होती है न ही सर्द हवाओं की ठिठुरन। गुलाबी ठंड के मौसम में डेज़र्ट सफारी, किलों की सैर और यहां के तीखे-चटपटे पकवानों का लुत्फ उठाने का अलग ही मजा है। अगर आप 2 से 3 दिनों की छुट्टियों को किसी अच्छी जगह जाकर बिताना चाहते हैं तो आपके लिए यह बेस्ट डेस्टिनेशन हो सकता है। यहां आप फन और एडवेंचर का एक साथ मजा ले सकते हैं।

जैसलमेर में डेजर्ट कैंपिंग का लुत्फ उठाएं

ट्रैवल पसंद लोगों की पसंदीदा जगहों की सूची में जैसलमेर की डेजर्ट कैंपिंग शामिल है । 'सन सिटी' के नाम से मशहूर जैसलमेर में डेजर्ट कैंपिंग के दौरान आप बॉनफायर, बार्बेक्यू डिनर और आसपास के गांवों में घूमने और उनके कल्चर को जानने जैसी कई एक्टिवटिज कर सकते हैं। गोल्डन सिटी के नाम से मशहूर जैसलमेर में डेजर्ट सफारी के लिए साल भर टूरिस्ट आते हैं। लेकिन विंटर सीजन में इसका अलग आनंद है। जैसलमेर के डेजर्ट सफारी कैंप में कल्चरल प्रोग्राम, राजस्थानी फूड और ऐडवेंचर का मजा लेने के लिए हर साल लाखों की संख्या में पर्यटक आते हैं। यहां आप सैंड ड्यून का भी लुत्फ उठा सकते हैं जिसके लिए बड़ी संख्या में लोग दुबई भी जाते हैं। 

 

इतने रुपए खर्च करने पड़ेंगे 

अगर आप डेजर्ट कैंप में एक रात ठहरना चाहते हैं तो आप विभिन्न ट्रैवेल कंपनियों से अपना पैकेज बुक करवा सकते हैं। अगर आप Yatra.com से पैकेज लेना चाहते हैं तो यहां आपको कम से कम 2,100 से 3,000 रुपए प्रति व्यक्ति चुकाने होंगे। इसके तहत आपको 8 घंटे के लिए कैमल मिलेगा जिस पर बैठकर आप डेजर्ट का मजा उठा सकते हैं। इसके साथ ही सचिया माता मंदिर के दर्शन कराने के बाद वापस डेजर्ट कैंप तक छोड़ दिया जाएगा। डेजर्ट कैंप में आप जोधपुर के लजीज व्यंजन का भी मजा ले सकते हैं। Make My trip से आपको प्रति व्यक्ति एक रात के लिए 6,272 रुपए चुकाने पड़ेंगे। यहां जरूरत की सभी सुविधाएं कैंप के अंदर मिल जाएंगी। इसमें राजस्थानी फूड भी शामिल है। Goibibo पर आपको प्रति व्यक्ति 3,500 रुपए चुकाने पड़ेंगे। इसमें आपको कैंप के अंदर रूम सर्विस, फूड और फ्री वाई फाई की सुविधा मिलेगी।

 

आगे पढ़ें :

 

 

इसका भी मजा जरूर लें

 

राजस्थान के एक बड़े हिस्से के रेगिस्तानी होने की वजह से वहां सब्जियां एवं फलों की खेती कम होती है। यहां लोग ज्यादातर अनाज, बाजरा, दाल एवं  मांसाहारी भोजन पर आश्रित रहते हैं। अगर आप जैसलमेर जाते हैं तो यहां आप विशेष रूप से, 'मिर्ची पकौड़ेका मजा ले सकते हैं। जैसलमेर के कढ़ी-पकौड़े अलहदा स्वाद के लिए मशहूर है। राजस्थानी कढ़ी की अपनी अलग खासियत है। इसमें बेसन की पकौडिय़ों को हल्की-सी खट्टी दही के साथ पकाया जाता है । दाल-बाटी चूरमा का भी मजा ले सकते हैं। जोधपुर में मिलने वाली मिठाइयांनमकीन और दूसरे कई व्यंजन सैलानियों को आकर्षित करते हैं। यहां अनोखे तरीके से गुलाब जामुन की सब्जी भी बनाई जाती है। यह स्वाद में भी कुछ अलग होती है। खाने-पीने के अलावा आप यहां के मशहूर फोर्ट भी घूम सकते हैं।

आगे पढ़ें :

कैसे पहुंचे जैसलमेर

 

जैसलमेर दिल्ली से 793 किमी दूर है। जैसलमेर सड़क और ट्रेन मार्ग से सारे देश से जुड़ा हुआ  है। राष्ट्रीय राजमार्ग-15 जैसलमेर से होकर गुजरता है। नजदीकी रेलवे स्टेशन जैसलमेर जंक्शन है। इसके अलावा अगर आप वायु मार्ग से आना चाहें तो नजदीकी एयरपोर्ट जोधपुर है। जोधपुर से जैसलमेर 300 किमी दूर है। यहां से आप टैक्सी या फिर बस के जरिए जैसलमेर पहुंच सकते हैं। बस का किराया 200 रुपए प्रति व्यक्ति है, जबकि टैक्सी का किराया चार हजार से अधिक पड़ता है।

 
prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट