विज्ञापन
Home » Economy » PolicyVaishno Devi Travel for 3 days will be completed in just 4 hours

जाना है वैष्णो देवी तो ऐसे करें प्लानिंग, 3 दिनों की यात्रा सिर्फ 4 घंटे में कर लेंगे पूरी, पैसे की भी होगी बचत

पिछले 5 सालों में इस बार सबसे अधिक श्रद्धालु पहुंचे वैष्णो देवी

1 of

नई दिल्ली। माता वैष्णो देवी मंदिर तक की यात्रा को देश के सबसे पवित्र और कठिन तीर्थ यात्राओं में से एक माना जाता है और इसकी वजह है माता का दरबार जम्मू-कश्मीर स्थित त्रिकूटा की पहाड़ियों में एक गुफा में है जहां तक पहुंचने के लिए 12 किलोमीटर की मुश्किल चढ़ाई करनी पड़ती है। इसमें कम से कम दिन तो लग ही जाते हैं, कई बार तो यात्रियों का एक-एक सप्ताह भी लग जाता है। एेसे में अगर आप वैष्णो देवी यात्रा पर जा रहे हैं तो आपके लिए अच्छी खबर है। अब आप महज चार से पांच घंटे में माता वैष्णो देवी का दर्शन कर पाएंगे।

बता दें कि इस बार वैष्णो देवी की यात्रा सुगम होने की वजह से पिछले पांच सालों में सबसे अधिक श्रद्धालु पहुंचे हैं। इस वर्ष 85 लाख के करीब श्रद्धालु मां के भवन में शीष नवाने पहुंच रहे हैं और यह पांच सालों का रिकॉर्ड है।

 

चार घंटे की यात्रा के लिए ऐसे करे प्लानिंग

देशभर के विभिन्‍न राज्‍यों से श्रद्धालु अधिकतर रेल व हवाई मार्ग से ही जम्‍मू पहुंचते हैं। कटरा के रेलमार्ग से जुड़ने के बाद अधिकतर यात्री सीधे कटरा ही पहुंचना पसंद करते हैं। वैष्णो देवी जाने के लिए नया रास्ता खोल दिया गया है इससे आपका एक घंटा समय बचेगा। हेलीपैड वैष्णो माता के दरबार तक जाती है। इसमें आपको कटरा से भवन तक जाने में महज पांच मिनट का समय लगेगा। इसके लिए आपको 15 दिन पहले ऑनलाइन टिकट बुक करानी होगी। हेलीपैड का टिकट अधिक महंगा नहीं होता है।हेली सेवा के लिए प्रति व्यक्ति इसके तहत 999 रु. अदा करना होता है। यह हेलीकॉप्टर सेवा वर्तमान में सुबह 8:00 बजे से शाम 4:30 बजे तक उपलब्ध है। 

 

बैटरी कार सेवा :

दिव्यांग, मरीज तथा बुजुर्ग श्रद्धालुओं के लिए श्री माता वैष्णो देवी श्राइन बोर्ड ने वर्ष 2010 में अर्धकुमारी से वैष्णो देवी मंदिर के बीच बैटरी कार सेवा शुरू की। इस मार्ग पर करीब 25 बैटरी कारें श्रद्धालुओं को सुबह 7:00 बजे से लेकर रात 10:00 बजे तक अपनी सेवाएं दे रही हैं। जिससे श्रद्धालुओं की विशेष कर दिव्यांग मरीज़ तथा बुजुर्ग श्रद्धालुओं की परेशानियां दूर हो गई हैं।

 

रोपवे सेवा

 इसके बाद आप भवन से भैरोनाथ का दर्शन करने के लिए राेपवे के रोमांच का लाभ उठा सकते हैं। रोपवे के लिए आपको प्रति व्यक्ति महज 100 रुपए देने होंगे। वैष्णो देवी मंदिर से भैरो घाटी के मध्य पैसेंजर केबल कार शुरू होने के बाद तो अब भैरो घाटी में भी भक्तों की भीड़ बढ़ रही है। पौराणिक मान्‍यता के अनुसार, भैरो दर्शन के बिना मां वैष्‍णो देवी यात्रा को पूर्ण नहीं माना जाता है। अभी तक कुछ फीसद लोग ही, वहां दर्शनों के लिए जा पा रहे थे।

 

 

ऐसे करें बुकिंग

 

इन सुविधाओं का फायदा उठाने के लिए श्रद्धालु श्री माता वैष्णो देवी श्राइन बोर्ड की अधिकारिक वेबसाइट ( www.maavaishnodevi.org) पर घर बैठे अपनी यात्रा पर्ची ऑनलाइन बुक कर सकता है। साथ ही हेलीकॉप्टर सेवा के साथ बैटरी कार सेवा और यहां तक कि आधार शिविर कटरा व मां वैष्णो देवी मंदिर पर रहने के लिए कमरों की बुकिंग भी वेबसाइट के जरिए कर सकता है। दिव्यांग, मरीज या फिर बुजुर्ग श्रद्धालु आधार शिविर पहुंचकर श्री माता वैष्णो देवी श्राइन बोर्ड के केंद्रीय कार्यालय के साथ ही नगर कटरा के मुख्य बस अड्डे पर बने निहारिका कंपलेक्स कार्यालय में जाकर अपने कागजात दिखाकर इन सभी सुविधाओं का लाभ उठा सकते हैं।

 

 

 

श्रद्धालुओं को पहले इन कठिनाइयों से होगुजरना पड़ता था 

 

करीब दो दशक पहले तक श्रद्धालुओं को वैष्णो देवी के दर्शनों के लिए कठिन चढ़ाई का सामना करना पड़ता था। इस तरह श्रद्धालुओं को कटरा से आगे भवन तक यात्रा पूरी करने के लिए करीब दो दिन का समय लगता था। उससे पूर्व श्रद्धालु रेलमार्ग तक जम्मू पहुंचते थे। वहां से निजी टैक्सी या फिर बसों में बैठकर आधार शिविर कटरा पहुंचना होता था। उसके बाद पैदल या फिर खच्‍चर पर भवन तक पहुंचते थे। समय के साथ ही केंद्र सरकार और श्री माता वैष्णो देवी श्राइन बोर्ड ने साल दर साल विभिन्न प्रकार की परियोजनाओं की शुरुआत की, जिसका वर्तमान में श्रद्धालु लाभ उठा रहे हैं और वैष्णो देवी यात्रा भी पूरी तरह से आसान हो गई है।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन