विज्ञापन
Home » Economy » PolicyTraders will boycott Chinese goods

मसूद अजहर का साथ देने वाले चीन की शामत, व्यापारी जलाएंगे चीन के सामान की होली

देश भर के व्यापारी होली पर चीन का माल नहीं बेचने की कसम खाएंगे

1 of

नई दिल्ली।

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद् में चीन द्वारा मसूद अजहर को ग्लोबल आतंकी घोषित करने पर वीटो लगाने और लगातार पाकिस्तान की मदद करने को देश के व्यापारियों ने देश की राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए एक बड़ा खतरा माना है और इसी को ध्यान में रखते हुए कॉन्फ़ेडरेशन ऑफ़ आल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) ने देश भर के व्यापारियों से चीनी वस्तुओं के बहिष्कार का ऐलान किया है। कैट ने यह भी घोषणा की है की आगामी 19 मार्च को देश भर में हजारों स्थानों पर व्यापारी चीनी सामान की होली जलाएंगे।

 

चीन के लिए भारत एक बड़ा बाजार है

 

कैट के राष्ट्रीय अध्यक्ष बी.सी.भरतिया एवं राष्ट्रीय महामंत्री प्रवीन खंडेलवाल ने कहा कि अब समय आ गया है जब चीन को पाकिस्तान का साथ देने के लिए और हर तरह से पाकिस्तान की मदद करने जो भारत के विरुद्ध काम आती है की कीमत चुकानी पड़ेगी । चीन के लिए भारत एक बड़ा बाजार है और यदि इस बाज़ार से चीन को बेदखल कर दिया जाए तो इससे चीन की अर्थव्यवस्था को बड़ा झटका झेलना होगा और इसीलिए कैट ने देश भर के व्यापारियों से आग्रह किया है की वो चीनी वस्तुओं का बहिष्कार करते हुए कोई चीनी सामन न बेचें और न ही खरीदें । अपने इस राष्ट्रीय अभियान में कैट ट्रांसपोर्ट, लघु उद्योग, हॉकर्स, उपभोक्ता आदि के राष्ट्रीय संगठनों को भी जोड़ेगा।

 

 

चीन से आता है 5 लाख करोड़ का सामान 

 

देश में प्रतिवर्ष चीन से लगभग 75 बिलियन डॉलर (5.33 लाख करोड़ रुपए) का सामान आयात होता है और यदि इस आयात में कमी आ जाए तो चीन को निश्चित रूप से बड़ा आर्थिक नुकसान होगा क्योंकि चीन के लिए दुनिया भर में भारत सबसे बड़ा बाज़ार है और इस अभियान के अंतर्गत चीनी वस्तुओं के इस्तेमाल पर यदि लोग रोक लगाते हैं तो निश्चित तौर पर चीन के आयात में बड़ी कमी आएगी और चीन का आर्थिक ढांचा कहीं न कहीं बिगड़ेगा ।

यह लगातार चौथी बार है जब चीन ने मसूद अजहर के मामले में वीटो का उपयोग किया है

 

ऐसे समय में जब पाकिस्तान भारत के साथ आतंकवादी गतिविधियों का खेल खेल रहा है ऐसे में चीन द्वारा मसूद अजहर को ग्लोबल आतंकी घोषित करने में रोड़ा अटकना एक तरह से भारत के खिलाफ कार्रवाई है । यह लगातार चौथी बार है जब चीन ने मसूद अजहर के मामले में वीटो का उपयोग किया है । इससे साफ़ जाहिर होता है की चीन पाकिस्तान का खुला समर्थन कर रहा है और करेगा । इसी कड़ी में यदि चीन को भारत के बाज़ार से बेदखल कर दिया जाए तो शायद चीन को समझ आए जाए।

कैट ने सरकार से मांग की है की चीनी वस्तुओं के आयात पर 300 से 500 प्रतिशत कस्टम ड्यूटी लगा दी जाए ।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन