विज्ञापन
Home » Economy » Policytourist gets to spend 24 hours locked up in a jail

अब आप बिना अपराध किए भी पहुंच सकते हैं जेल, चुकाने पड़ेंगे 500 रुपए

इस जेल में टीवी, एलईडी लाइट्स,न्यूज पेपर से लेकर माॅर्निंंग वाॅक के लिए शानदार पार्क भी मिलेगा

1 of


 

नई दिल्ली। से बहुत से लोग हैं जिन्होंने जेल के बारे में केवल सुना है लेकिन उन्हें पता ही नहीं है कि जेल के अंदर का माहौल कैसा होता है। ऐसे में अगर आप भी जेल की लाइफ को महसूस करना चाहते हैं तो अब आप आसानी ये जेल में प्रवेश पा सकते हैं। दिल्ली की तिहाड़ जेल अब जेल को टूरिस्ट प्लेस में बदल रहा है। तिहाड़ जेल में शुरू होने वाली योजना ‘फील द जेल’ के तहत काम पूरा होने वाला है। अब आप जेल में बिना अपराध किए भी पहुंच सकत हैं। तिहाड़ जेल प्रशासन ‘फील द जेल’ योजना पर काम करते हुए जेल कैंपस में ऐसी 4 सेल तैयार करा रहे हैं। यहां लोग पैसे देकर एक रात गुजार सकेंगे। यहां उन लोगों की इच्छा पूरी होगी जो जेल देखना चाहते हैं।

 

500 रुपए होगा किराया

 ऐसे में अगर आप जेल में एक रात बिताना चाहते हैं तो इसके लिए आपको मात्र 500 रुप खर्च करने होंगे। इन दिनों तिहाड़ जेल का प्रशासन लोगों को जेल का अनुभव दिलाने के कॉन्सेप्ट पर काम कर रहा है। 

 

मिलेगी ये सुविधाएं

इस कॉन्सेप्ट के तहत जेल में टूरिस्ट्स के लिए चार सेल तैयार किए जाएंगे। इसका काम पूरा हो गया है। इन चार स्पेशल सेल को तिहाड़ जेल हेडक्वार्टर के पास बने कोर्ट कॉम्प्लेक्स में बनाया है। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, इस सेल में कम से कम 5 लोगों के रहने का इंतजाम किया जाएगा। इस प्रकार 20 लोग एक दिन में इन चार सेल में रह सकते हैं और जेल का अनुभव कर सकते हैं। प्रशासन ने बताया कि सेल बिल्कुल जेल के जैसे ही होंगे। जेल में 15X30 फूट का कमरा मिलेगा। इसमें टीवी, एलईडी लाइट्स, इंग्लिश और हिन्दी न्यूज पेपर, मैगजीन, कमरे में अटैज टाॅयलट। बाहर निकलते ही माॅर्निंंग वाॅक के लिए शानदार पार्क है।

 

 

 

बाकी कैदियों की तरह ही दिया जाएगा टूरिस्ट्स को खाना, फर्श पर पड़ेगा सोना
जेल में टूरिस्ट्स को बाकी कैदियों की तरह ही खाना दिया जाएगा। इसके साथ ही सेल को बनाते समय इस बात पर भी पूरा ध्यान दिया जा रहा है कि उसका डिजाइन ठीक वैसा ही हो जैसा बाकी सेल का है। सेल के अंदर ही टूरिस्ट्स के लिए बाथरूम तैयार किया जा रहा है। तिहाड़ में रात बिताने के लिए टूरिस्ट्स को बिस्तर या बेड नहीं दिया जाएगा वह बाकी कैदियों की तरह ही सेल में जमीन पर सोकर अपनी रात बिताएंगे। 

सेल का काम अंतिम चरण में..

सेल को तैयार का काम अब लगभग अंतिम चरण में है। यहां टूरिस्ट को बाकी कैदियों की तरह की रहना होगा। गर्मियों में एेसी की जगह पंखें मिलेंगे।

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन