Home » Economy » Policyडॉक्‍टर भीमराव आम्‍बेडकर जन्‍मदिन Live update Ambedkar An Economist

ये हैं बाबा साहब अंबेडकर की 5 बातें, आपको हमेशा देंगी हौसला

भीमराव अंबेडकर ऐसे नेता रहे हैं, जो मरने के बाद कहीं ज्‍यादा फेमस हो गए....

1 of

नई दिल्‍ली। भीमराव अंबेडकर ऐसे नेता रहे हैं, मरने के बाद कहीं ज्‍यादा फेमस हो गए। उसका सबसे बड़ा कारण उनका दलितों को लेकर विचार और संविधान निर्माण में योगदार रहा। भारत में लोकतंत्र की जड़ें जैसे जैसे गहरी हुईं और दलित राजनीति परवार चढ़नी शुरू हुई, अंबेडकर पहले के मुकाबले और ज्‍यादा मशहूर होते चले गए। यही कारण है कि आज वह राजनीतिक विचारधारा में उनके लिए गहरा सम्‍मान है।

 

भारत को संविधान देने वाले भीमराव का जन्म 14 अप्रैल, 1891 में हुआ। शुरुआती ट्रेनिंग एक इकोनॉमिस्‍ट के तौर पर हुई। पहले ब्रिटेन और बाद में अमेरिका में भारतीय अर्थव्‍यवस्‍था से जुड़े उनके कई पेपर काफी सुर्खियों में रहे। हालांकि भारत आने के बाद अंबेडकर ने पूरा जीवन दलितों के लिए लगा दिया। आइए अंबेडकर के जन्‍मदिन पर उनके कुछ विचारों के बारे में जानते हैं। 

 

 

 

नंबर-1: इतिहास बताता है कि जहां नैतिकता और अर्थशास्त्र के बीच संघर्ष होता है, वहां जीत हमेशा अर्थशास्त्र की होती है। निहित स्वार्थों को तब तक स्वेच्छा से नहीं छोड़ा गया है, जब तक कि मजबूर करने के लिए पर्याप्त बल न लगाया गया हो। 

 

 

 

 

नंबर-2: समानता एक कल्पना हो सकती है, लेकिन फिर भी इसे एक गवर्निंग सिद्धांत रूप में स्वीकार करना होगा।

नंबर-3: बुद्धि का विकास मानव के अस्तित्‍व का अंतिम लक्ष्‍य होना चाहिए।   

 

 

नंबर-4: यदि मुझे लगा कि संविधान का दुरुपयोग किया जा रहा है, तो मैं इसे सबसे पहले जलाऊंगा।

नंबर-5: जब तक आप सामाजिक स्वतंत्रता नहीं हासिल कर लेते, कानून आपको जो भी स्वतंत्रता देता है वो आपके लिये बेमानी है।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट