Home » Economy » Policyyou may have to pay highway toll based on distance

जि‍तना चलेंगे उतना देना होगा टोल, जानें नया नियम

अब आपको टोल रोड के इस्‍तेमाल के लि‍ए एक तय शुदा शुल्‍क नहीं देना होगा।

1 of

नई दि‍ल्‍ली।  सरकार ने नया टोल नियम तैयार कर लिया है। जिसमें आपको टोल रोड के इस्‍तेमाल के लि‍ए एक तय शुदा शुल्‍क नहीं देना होगा। यानी आपने टोल रोड पर जि‍तना लंबा सफर कि‍या, उसी के हि‍साब से आपको शुल्‍क देना होगा।

 

अभी तक की व्‍यवस्‍था है कि‍ टोल रोड पर पूरा टोल देना होता है, भले ही आपने बीच में रास्‍ता बदल लि‍या हो। जि‍तना रोड इस्‍तेमाल कि‍या उसी के हि‍साब से शुल्‍क लेने की मांग लंबे समय से चली आ रही थी, मगर तकनीकी दि‍क्‍कतों की वजह से ऐसा करना संभव नहीं हो पा रहा था। अब जि‍यो फेंसिंग तकनीक की बदौलत ये संभव होने जा रहा है। इस बात की तैयारी मिनिस्ट्री ऑफ रोड ट्रांसपोर्ट एंड हाईवे और एनएचएआई ने इस प्रपोजल को अंंतिम रुप दे दिया है।

 

नए सिस्टम में क्या होगा

 जब भी कोई वाहन नेशनल हाईवे से गुजरेगा उसके मूवमेंट को ट्रैक कि‍या जाएगा ताकि उसी के हि‍साब से टोल रोड के इस्‍तेमाल का शुल्‍क लि‍या जा सके। सरकार इसके तहत जि‍यो फेंसिंग मॉडल बनाएगी। दरअसल ग्‍लोबल पोजीशनिंग या रेडि‍यो फ्रिक्‍वेंसी आइडेंटि‍फि‍केशन तकनीक की मदद से एक वर्चुअल सीमा तैयार कर ली जाती है। जैसे ही कोई मोबाइल डि‍वाइस उस इलाके में प्रवेश करता है या नि‍कलता है ,सॉफ्टवेयर सि‍स्‍टम उसके मूवमेंट को ट्रैक कर लेता है।  आगे पढ़ें बदलेगी टोल प्लाजा की कनेक्शन

टोल प्लाजा की बदलेगी लोकेशन

 


इस व्‍यवस्‍था को सही ढंग से  लागू करने के लि‍ए टोल प्‍लाजा को टोल मार्गों के एंट्री और एग्‍जि‍ट प्‍वांइट पर लगाया जा सकता है। नेशनल हाईवे फीस रूल्‍स के मुताबि‍क, हर साल 1 अप्रैल से टोल रेट को रि‍वाइज कि‍या जाता है। मौजूदा नीति के मुताबि‍क, 6 लेन के प्रोजेक्‍ट के लि‍ए रोड पूरी तरह से बनने से पहले ही टोल ले लि‍या जाता है। जि‍यो फेंसिंग सरकार की उसी योजना का हि‍स्‍सा है जि‍सके तहत वाहनों में फास्‍ट टैग लगाया जाना है ताकि हाईवे पर सफर पूरी तरह से बाधा रहि‍त हो जाए। टोल बूथों पर लगनी वाली लाइन को खत्‍म करने के मकसद से सि‍तंबर 2017 में इस पर कदम बढ़ाए गए। 

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट