विज्ञापन
Home » Economy » PolicyClean ride on 14km solar track may save Rs 3 lakh per year in power bill

जल्द ही देश काे मिलेगा 14 किमी लंबा सोलर साइकल ट्रैक कॉरिडोर, सालाना होगी 3 लाख रुपए की बचत

ट्रैक का काम 40 मीटर तक हो चुका है

1 of

नई दिल्ली। दिल्ली में साइक्लिंग लवर्स के लिए PWD 14 किमी लंबा सोलर साइकिल ट्रैक बना रहा है। आउटर रिंग रोड पर मुकरबा चौक से जगतपुर गांव तक टैक बनाया जाएगा। इस ट्रैक के साइकिल शेड पर सोलर पावर पैनल लगे होंगे। इस ट्रैक पर साइकल स्टेशन शेड और बस स्टॉप दोनों की सुविधा उपलब्ध होगी।  6 महीने में ट्रैक के पूरा होने की डेडलाइन तय की गई है।

 

इस ट्रैक का काम 40 मीटर तक हो चुका है

साइकल शेड के ऊपर बने प्रत्येक सोलर पावर पैनल से रोजाना करीब 25 यूनिट बिजली उत्पादन होगा। सभी जगहों पर लगे सोलर पैनल से सालाना करीब 5 मेगावॉट बिजली का उत्पादन संभव होगा। सोलर साइकल ट्रैक का काम 40 मीटर तक हो चुका है।

 

एक सोलर शेड करीब 24.7 यूनिट बिजली उत्पादन कर सकता है

 

पीडब्ल्यूडी के अधिकारी के अनुसार, जगतपुर गांव के पास सोलर पैनल शेड भी बनाया गया है। एक सोलर शेड की क्षमता करीब 24.7 यूनिट बिजली उत्पादन करने की होगी। मुकरबा चौक तक इसी तरह से कई सोलर पैनल शेड बनाए जाएंगे, जहां लोग साइकल खड़ी कर सकते हैं। सोलर शेड को बस स्टैंड के रूप में भी इस्तेमाल किया जा सकता है। 

 

इससे PWD को हर साल करीब 3 लाख रुपए की बचत होगी

 

बता दें कि आउटर रिंग रोड पर रोशनी के लिए कई स्ट्रीट लाइट्स को टाटा पावर बिजली सप्लाई करती है। इससे लाखों रुपए तक बिजली का बिल चला जाता है, लेकिन साेलर ट्रैक के लिए जिस साेलर पैनल लगाया जाएगा उससे 5 मेगावाॅट बिजली मिलेगी। इस बिजली का इस्तेमाल स्ट्रीट लाइट्स को रोशन करने के लिए की जाएगी और जो बिजली बचेगी उसे ग्रिड में भेज दिया जाएगा ताकि अन्य लोगों के भी काम आ सके। इससे PWD को हर साल करीब 3 लाख रुपए की बचत होगी।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन