बिज़नेस न्यूज़ » Economy » Policyसरकार ने बनाए नए नि‍यम, जानें कौन सी गाड़ी कि‍स रफ्तार पर चला पाएंगे

सरकार ने बनाए नए नि‍यम, जानें कौन सी गाड़ी कि‍स रफ्तार पर चला पाएंगे

खाली सड़क, चौड़े हाईवे और एक्‍सप्रेसवे पर एक्‍सीलेटर दब ही जाता है।

1 of
नई दि‍ल्‍ली। खाली सड़क, चौड़े हाईवे और एक्‍सप्रेसवे पर एक्‍सीलेटर दब ही जाता है। ऐसे में अगर कहीं ट्रैफि‍कवाले खड़े मि‍ल गए तो चालान भरना पड़ता है, मगर अब इसमें कुछ राहत मि‍ल गई है। केंद्र सरकार ने स्‍पीड लीमि‍ट को बढ़ा दि‍या है। हालांकि‍ राज्‍य सरकारों व लोकल अथॉरि‍टी को ये अधि‍कार होगा कि‍ वह सड़क की कंडीशन या अन्‍य फैक्‍टर्स को ध्‍यान में रखते हुए स्‍पीड लि‍मि‍ट को घटा सकते हैं।  मीडि‍या रिपोर्ट के मुताबिक, अभी तक सड़क परि‍वहन मंत्रालय अलग अलग तरह की गाड़ि‍यों के लि‍ए स्‍पीड लीमि‍ट तय करता था। इसमें कुछ इलाकों, सड़कों के हि‍साब से अलग से स्‍पीड लीमि‍ट तय की जाती थी। यहां राज्‍य सरकार और लोकल अथॉरि‍टी को भी यह अधि‍कार होता है कि वह जरूरत के हि‍साब से स्‍पीड लीमि‍ट को बदल सकें। आगे पढ़ें 

ये है नई स्‍पीड लीमि‍ट 

 

कुछ सड़कों पर चलने वाली कारों के लि‍ए यह 70 कि‍लोमीटर प्रति‍घंटा, कार्गो कैरि‍यर के लि‍ए 60 और टू व्‍हीलर के लि‍ए 50 कर दी गई है। नए नि‍यम के मुताबि‍क, एक्‍सप्रेस पर गति‍ सीमा को 110 से बढ़ाकर 120 कर दि‍या गया है। वहीं नेशनल हाईवे पर कारों की रफ्तार को 80 से बढ़ाकर 100 कर दि‍या गया है।  आगे पढ़ें 5 % ज्‍यादा होने पर भी नहीं होगा चालान

 

जल्‍द जारी होगी अधि‍सूचना 
अभी आमतौर पर अधिकतम गति सीमा 40 से 50 कि‍लोमीटर प्रतिघंटा है। सूत्रों का कहना है कि रिंग रोड और शहरी इलाकों में बनी बड़ी बड़ी सड़कों की गि‍नती बढ़ गई है, जिसकी वजह से सड़क परि‍वहन मंत्रालय अधि‍कतम सीमा बढ़ा रहा है। केंद्रीय परि‍वहन मंत्री नि‍तिन गडकरी ने चार तरह की सड़कों पर अधि‍कतम गति सीमा को लेकर दि‍ए गए प्रस्‍ताव को हरीं झंडी दे दी। इस प्रस्‍ताव को पेश करने वाली समिति के अध्‍यक्ष अभय दामले ने एक्‍सप्रेस वे और हाईवे पर स्‍पीड लीमि‍ट को बढ़ाने की सि‍फारि‍श की  

 

नहीं होगा चालान 
इसके अलावा अगर आपकी गाड़ी की रफ्तार तय गति सीमा से 5 फीसदी तक ज्‍यादा है तो चालान नहीं कि‍या जाएगा। गौरतलब है कि गति सीमा बढ़ाने का यह फैसला ऐसे वक्‍त पर आया है जब बढ़ती सड़क दुर्घटनाओं को देखते हुए हर ओर से गति सीमा घटाने पर जोर दि‍या जा रहा है। सड़क पर होने वाला मौतों की सबसे बड़ी वजह रफ्तार होती है। वर्ष 2016 में 74,000 लोग इसकी भेंट चढ़ गए।   आगे पढ़ें 

जल्‍द जारी होगी अधि‍सूचना 
अभी आमतौर पर अधिकतम गति सीमा 40 से 50 कि‍लोमीटर प्रतिघंटा है। सूत्रों का कहना है कि रिंग रोड और शहरी इलाकों में बनी बड़ी बड़ी सड़कों की गि‍नती बढ़ गई है, जिसकी वजह से सड़क परि‍वहन मंत्रालय अधि‍कतम सीमा बढ़ा रहा है। केंद्रीय परि‍वहन मंत्री नि‍तिन गडकरी ने चार तरह की सड़कों पर अधि‍कतम गति सीमा को लेकर दि‍ए गए प्रस्‍ताव को हरीं झंडी दे दी। इस प्रस्‍ताव को पेश करने वाली समिति के अध्‍यक्ष अभय दामले ने एक्‍सप्रेस वे और हाईवे पर स्‍पीड लीमि‍ट को बढ़ाने की सि‍फारि‍श की थी। यह फैसला जल्‍द ही नोटीफाई कर दि‍या जाएगा। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट