विज्ञापन
Home » Economy » PolicyRight to disconnect bill introduced in Parliament

नौकरीपेशा लोगों को मिल सकती है बड़ी राहत: ऑफिस के बाद बॉस नहीं कर पाएंगे आपको तंग

ऑफिस का समय पूरा होने के बाद बाॅस के फोन कर सकेंगे इग्नोर

1 of

 

नई दिल्ली। संसद के शीतकालीन सत्र में जहां एक तरफ सवर्णों को 10 फीसदी आरक्षण देने का प्रावधान किया गया है वहीं संसद में इस बार राइट टू डिस्कनेक्ट बिल पेश किया गया है। अगर यह बिल पास हो जाता है तो सरकारी या प्राइवेट कोई भी नौकरी करने वाले कर्मचारियों को बहुत बड़ी खुशखबरी मिलेगी। दरअसल, इस बिल में प्रावधान है कि कर्मचारी ऑफिस टाइम के बाद या छुट्टी पर रहने की स्थिति में बॉस या अपने सीनियर अधिकारी के फोन आने पर कॉल को डिस्कनेक्ट कर सकेंगे। यह बिल नौकरीपेशा लोगों के लिए खुशखबरी बन कर आएगा। इस बिल का प्रस्ताव एनसीपी सांसद सुप्रिया सुले ने रखा है।

 

ऑफिस का समय पूरा होने के बाद नहीं कर पाएंगे बॅास फोन

इस बिल में कर्मचारियों को यह अधिकार देने की बात की गई है। सुप्रिया सुले ने कहा कि इस बिल के जरिए कंपनी कर्मचारियों पर ज्यादा काम नहीं लाद सकेगी। उन्होंने बताया कि इस बिल के आने के बाद कर्मचारियों में तनाव कम रहेगा और पर्सनल लाइफ स्टेबल रहेगी। आपको बता दें कि यह बिल अभी सिर्फ लोकसभा में पेश किया गया है, लोकसभा और राज्‍यसभा से मंजूरी मिलने के बाद ही यह काननू बन पाएगा।

 

इन देशों में है यह नियम

बता दें, ऐसा ही बिल फ्रेंच सुप्रीम कोर्ट लागू कर चुकी है। न्यूयॉर्क में भी इसकी शुरुआत हुई और जर्मनी में भी इसे कानून बनाने की बात चल रही है। अगर ये बिल पास हो गया तो कर्मचारी काम के बाद बाॅस के कॉल्स इग्नोर सकेंगे और इस पर कोई एक्शन भी नहीं लिया जाएगा।

 

 

 

 

प्राइवेट कंपनियों में काम करने वाले कर्मचारियों के लिए राहत होगी

 

बहरहाल, अगर राइट टू डिस्कनेक्ट बिल पारित होकर कानून बन जाएगा तो निश्‍चित रुप से प्रावइेट कंपनियों में काम करने वाले कर्मचारियों के लिए राहत की बात होगी।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन