बिज़नेस न्यूज़ » Economy » Policyदेश में मिडिल-लोअर क्लास की 1% तो अमीरों की 13% की दर से बढ़ रही है दौलत: ऑक्सफेम रिपोर्ट

देश में मिडिल-लोअर क्लास की 1% तो अमीरों की 13% की दर से बढ़ रही है दौलत: ऑक्सफेम रिपोर्ट

भारत की कुल संपत्ति के 73 फीसदी हिस्‍से पर देश के 1 फीसदी अमीरों का कब्‍जा है।

1 of

दावोस. भारत की कुल संपत्ति के 73 फीसदी हिस्‍से पर देश के 1 फीसदी अमीरों का कब्‍जा है। यह आंकड़ा दर्शाता है कि देश में आय के मामले में असमानता बढ़ती जा रही है। यानी देश के अमीर और अमीर होते जा रहे हैं। यह जानकारी इंटरनेशनल राइट्स ग्रुप ऑक्‍सफैम के एक सर्वे से सामने आई। 

 

केवल 1 फीसदी बढ़ी 67 करोड़ भारतीयों की संपत्ति 

सर्वे के मुताबिक, देश की कुल आबादी में से 67 करोड़ भारतीयों की संपत्ति में केवल 1 फीसदी का इजाफा हुआ है। पिछले साल के ऑक्सफेम सर्वे से यह खुलासा हुआ था कि देश के महज 1 फीसदी अमीरों के पास देश की कुल संपत्ति का 58 फीसदी हिस्सा है। 

 

दुनिया के 3.7 अरब लोगों की संपत्ति में नहीं हुआ कोई इजाफा 

पिछले साल पूरी दुनिया में सृजित कुल संपत्ति का 82 फीसदी हिस्सा दुनिया के सिर्फ एक फीसदी अमीरों के पास है, जबकि 3.7 अरब लोगों की संपत्ति न के बराबर बढ़ी है। सर्वे के अनुसार साल 2017 के दौरान भारत के एक फीसदी अमीरों की संपत्ति में 20.9 लाख करोड़ रुपये की बढ़ोतरी हुई है। यह राशि साल 2017-18 के केंद्र सरकार के कुल बजट के बराबर है। 

 

अमीरों के हाथों में सिमट रही है संपत्ति 

ऑक्‍सफेम ने कहा रिपोर्ट रिवॉर्ड वर्क, नॉट वेल्‍थ दर्शाती है कि कैसे ग्‍लोबल इकोनॉमी अमीरों एक बड़ी संपत्ति का मालिक बना रही है, जबकि बाकी के करोड़ों लोग गरीबी से बाहर आने के लिए संघर्ष कर रहे हैं। आगे कहा गया कि 2017 में हर दो दिन पर एक आदमी के अमीर बनने की दर से अमीरों की संख्‍या में तेज इजाफा देखा गया। उनकी संपत्ति 2010 के बाद से औसतन 13 फीसदी सालाना की दर से बढ़ी है। यह किसी सामान्‍य वर्कर के वेतन में होने वाली वृद्धि से 6 गुना ज्‍यादा की तेजी है। एक सामान्‍य वर्कर के वेतन में बढ़ोत्‍तरी का सालाना औसत केवल 2 फीसदी रहा है। 

 

एक वर्कर को टॉप एग्‍जीक्‍यूटिव की सैलरी तक पहुंचने में लगेंगे 941 साल 

अध्ययन के अनुसार, ग्रामीण भारत में एक न्यूनतम मजदूरी पाने वाले वर्कर को किसी दिग्गज गारमेंट कंपनी के शीर्ष वेतन वाले एग्‍जीक्‍यूटिव की सालाना आय के बराबर पहुंचने में 941 साल लग जाएंगे। अमेरिका में एक साधारण वर्कर की सालभर की कमाई तक पहुंचने में केवल 1 दिन लगता है। 
 

देश में पिछले साल बने 17 नए अरबपति 

रिपोर्ट के अनुसार, पिछले साल देश में 17 नए अरबपति बने, जिससे  देश में कुल अरबपतियों की संख्या 101 हो गई है। भारतीय अरबपतियों की दौलत में पिछले साल 4.89 लाख करोड़ रुपए का इजाफा हुआ और इस तरह यह बढ़कर कुल 20.7 लाख करोड़ रुपये से ज्यादा हो गई है। यह आंकड़ा सभी राज्यों के स्वास्थ्य और शिक्षा बजट के 85 फीसदी के बराबर है। 
 

आय असमानता को दूर करने के लिए आपसी सहयोग जरूरी 

10 देशों के 70,000 लोगों पर किए गए ग्‍लोबल सर्वे का हवाला देते हुए ऑक्‍सफैम ने कहा कि सर्वे में लगभग दो तिहाई उत्‍तरदाताओं का कहना था कि उन्‍हें लगता है कि अमीर और गरीब के बीच की खाई को जल्‍द से जल्‍द भरने की जरूरत है। इसलिए इस असमानता को दूर करने के लिए आपसी सहयोग की सख्‍त जरूरत है। 

 

हर किसी को फायदा पहुंचाने वाली बने इंडियन इकोनॉमी 

ऑक्‍सफैम इंडिया ने भारत सरकार से अपील की है कि देश की इकोनॉमी हर किसी को फायदा पहुंचाने वाली बने न कि केवल कुछ लोगों को। यह भी अपील की गई कि भारत लेबर की बहुतायत वाले सेक्‍टर्स को प्रोत्‍साहन, कृषि में इन्‍वेस्‍टमेंट और सामाजिक सुरक्षा स्‍कीमों को प्रभावी तरीके से लागू करते हुए तेज ग्रोथ को प्रमोट करे। ऑक्‍सफैम ने यह भी मांग की है कि कर चोरी को लेकर सरकार कड़े उपाय करे। 
 

अमीरों की बढ़ती संख्‍या असफल इकोनॉमिक सिस्‍टम का सूचक 

रिपोर्ट में यह भी कहा गया कि भारत के अमीरो में से 37 फीसदी को दौलत विरासत में मिली है। उनके पास देश के अरबपतियों की कुल दौलत का 51 फीसदी हिस्‍सा है। ऑक्सफेम इंडिया की सीईओ निशा अग्रवाल ने कहा कि यह चेतावनीजनक स्थ‍िति है कि भारत की इकोनॉमिक ग्रोथ का फायदा केवल कुछ लोगों को ही मिल पा रहा है। उन्‍होंने यह भी कहा कि देश में अमीरों की बढ़ती संख्‍या संपन्‍न इकोनॉमी का नहीं, बल्कि एक असफल इकोनॉमिक सिस्‍टम का सूचक है। जो लोग कड़ी मेहनत कर रहे हैं, देश के लिए अन्‍न उगा रहे हैं, इंफ्रास्‍ट्रक्‍चर का निर्माण कर रहे हैं, फैक्ट्रियों में काम कर रहे हैं, वे अपने बच्‍चों की शिक्षा, परिवार के सदस्‍यों के लिए दवाएं खरीदने और दिन में दो बार का खाना जुटाने के लिए संघर्ष कर रहे हैं। आय के मोर्चे पर बढ़ती खाई लोकतंत्र को कमजोर करती है और भ्रष्‍टाचार को बढ़ावा देती है।    

 

देश में 10 में से 9 अरबपति पुरुष 

सर्वे में यह भी कहा गया कि देश में 10 में से 9 अरबपति पुरुष हैं। भारत में महिला अरबपतियों की संख्‍या केवल 4 है और इनमें से भी तीन को दौलत विरासत में मिली है। 

 
prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट