विज्ञापन
Home » Economy » PolicyRecap to Lok Sabha Elections 2014

2014 के लोकसभा चुनावों में खर्च हुए थे 3426 करोड़ रुपए, प्रति वोटर खर्च आया था 41 रुपए का, ऐसा रहा पिछला आम चुनाव

मोदी सरकार चुने जाने से पहले 2014 में सेंसेक्स में 30% की बढ़ोतरी दर्ज की गई थी, भाजपा को पूर्ण बहुमत मिला था

1 of

नई दिल्ली.

 

1952 में जब पहली बार लोकसभा चुनाव हुए तो उसमें कुल खर्च 10.45 करोड़ रुपए आया था। प्रति वोटर पर सरकारी खर्च 60 पैसे था। तब से अब तक चुनावों का रंग-रूप काफी बदल गया है और इनका दायरा काफी बड़ा हो गया है। इसके के चलते चुनावी खर्च भी कई गुना बढ़ गया है। अगर पिछले लोकसभा चुनावों की बात की जाए तो इसमें प्रति वोटर खर्च बढ़कर 41 रुपए हो गया, जो कि 1952 के चुनावों के मुकाबले 68 फीसदी ज्यादा था। यानी 62 साल में प्रति वोटर खर्च 68 फीसदी बढ़ गया। इस चुनाव में इससे भी ज्यादा खर्च होने की उम्मीद है।

 

 

ऐसा रहे पिछले आम चुनाव

2009 के इलेक्शन में कुल खर्च 846 करोड़ पहुंच गया। जबकि एक वोटर पर सरकार का खर्च 12 रुपए आया। 2014 के बाद 2004 में इलेक्शन में सबसे ज्यादा 1114 करोड़ रुपए खर्च हुए। तब प्रति वोटर सरकार ने 17 रुपए खर्च किए थे। 2014 में आज तक का सबसे महंगा चुनाव रहा। इसमें 3426 करोड़ रुपए खर्च हुए। 2009 के मुकाबले 131% ज्यादा। शुरुआती छह चुनावों में प्रति वोटर कॉस्ट 1 रुपए से कम रही थी।

34 साल में सिर्फ दो बार से चुनाव पूर्व सेंसेक्स में गिरावट

1980 से 2014 के बीच सिर्फ दो बार 1996 और 1998 में ऐसा हुआ जब चुनाव से पहले सेंसेक्स में गिरावट आई। 1996 में -1% जबकि 1998 में -16 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई थी। 1991 में चुनावों से पहले सेंसेक्स में 82% की सबसे ज्यादा बढ़ोतरी दर्ज की गई। मोदी सरकार चुने जाने से पहले 2014 में 30% की बढ़ोतरी दर्ज की गई थी।

महंगाई दर चुनाव से पहले दो बार ही 4% से नीचे रही

वहीं अगर महंगाई दर की बात की जाए तो 1971 और 2004 में ही ऐसा हुआ जब इलेक्शन से पूर्व महंगाई दर 4% के नीचे रही। 1971 से 2014 के बीच हुए 12 चुनावों में 10 बार महंगाई दर 5% से 14% के बीच रही। 1991 में चुनाव से पहले महंगाई दर किसी भी चुनावी साल में सबसे ज्यादा 13.80% रही थी। 2014 में महंगाई दर चुनाव से पहले 6.37% रही।

 

 

स्रोत : आरबीआई, चुनाव आयोग, इंडियन इकोनॉमी हैंडबुक

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन