विज्ञापन
Home » Economy » PolicyRahul says no angel tax, no permissions for new business

NYAY के बाद राहुल का युवाओं के लिए नया ऐलान, इन 4 कदमों से जिंदगी बदलने का दावा

हटाया जाएगा एंजल टैक्स, आसानी से मिलेगा लोन, बन रहा घोषणा पत्र

1 of

नई दिल्ली। सरकार बनने पर देश के गरीब परिवारों को सालाना 72000 रुपए देने का ऐलान करने वाले राहुल गांधी ने युवाओं को लुभाने के लिए कई प्रस्ताव पेश किए हैं। पीटीआई से विशेष बातचीत में राहुल गांधी ने कहा है कि उनकी पार्टी की सरकार बनने पर देश में सभी नए व्यवसायों को लाल फीताशाही के चंगुल से मुक्त किया जाएगा और यह सुनिश्चित किया जाएगा कि नए उद्यमियों को तीन साल तक कोई अनुमति लेने की जरूरत नहीं पड़े। उन्हें बैंक ऋण भी आसानी से उपलब्ध कराया जाएगा।

खत्म होगा एंजल टैक्स
लोकसभा चुनाव के पहले चरण के मतदान से कुछ दिन पहले पीटीआई को दिए विशेष साक्षात्कार में गांधी ने यह भी कहा कि नए व्यवसायों पर लगने वाले एंजल टैक्स को भी हटाया जाएगा। इन प्रस्तावों को लोकसभा चुनाव के लिए अगले महीने की शुरुआत में जारी होने वाले कांग्रेस के चुनाव घोषणापत्र में भी जगह दी जाएगी। गांधी ने बताया कि नया कारोबार शुरू करने के बाद तीन वर्ष तक हम आपको लाल फीताशाही से मुक्त रखेंगे। आपको किसी तरह की अनुमति की जरूरत नहीं पड़ेगी। चुनाव से पहले युवाओं को कांग्रेस की तरफ आकर्षित करने की कोशिश के तहत उन्होंने कहा कि किसी चीज की चिंता मत करिए। आप को किसी अनुमति की जरूरत नहीं होगी। अपना कारोबार, अपना काम शुरू करिए। उन्होंने कहा कि हमने कहा है कि हम कठोर और त्रुटिपूर्ण एंजल टैक्स को हटाएंगे। मैंने यह वादा किया है और इसे पूरा किया जाएगा।

कारोबारियों के लिए बैंकिंग व्यवस्था को सुलभ बनाया जाएगा


गांधी ने कहा कि कई उद्यमियों ने चर्चा के दौरान कहा कि नए उपक्रम शुरू करने से पहले विभिन्न एजेंसियों से अलग अलग तरह की अनुमति लेना सबसे बड़ी समस्या है। राहुल के अनुसार, उद्यमियों ने कहा कि विभिन्न एजेंसियां ढेरों सवाल करती हैं और रिश्वत मांगती है। ऐसे में हमने कहा कि हमें आप पर विश्वास है और नए कारोबार शुरू करने के तीन वर्ष तक हम आपको लाल फीताशाही से मुक्त करने जा रहे हैं। कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि उद्यमियों से चर्चा के दौरान एक और विचार सामने आया कि नए कारोबारियों के लिए बैंकिंग व्यवस्था को सुलभ बनाया जाए।

घोषणा पत्र में होंगी कारोबार-खेती से जुड़ी योजनाएं


उन्होंने सवाल किया कि सिर्फ नीरव मोदी को ही हजारों करोड़ रुपए क्यों मिलने चाहिए? उसने भारत में कितनी नौकरियां पैदा की हैं? अगर कोई नौजवान कारोबार शुरू करना चाहता है और दो हजार नौकरियां सृजित करना चाहता है तो उसे बैंक ऋण क्यों नहीं मिल सकता? गांधी ने कहा कि समाज के विभिन्न समूहों से विचार-विमर्श करने के बाद चुनावी घोषणापत्र तैयार हो रहा है जिसमें कारोबार, खेती, रोजगार सृजन को बढ़ावा देने की बातें शामिल होंगी। कांग्रेस सूत्रों का कहना है कि अप्रैल के पहले सप्ताह में पार्टी का चुनाव घोषणापत्र जारी किया जा सकता है। पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम की अध्यक्षता वाली समिति घोषणापत्र को अंतिम रूप दे रही है।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन