Home » Economy » PolicyQutub Minar is the most visited monument by tourists in Delhi

कुतुबमीनार है विदेशी पर्यटकों की पहली पसंद, यहां पहुंच रहे हैं भारतीयों से ज्यादा विदेशी

इस साल अक्टूबर तक डेढ लाख पर्यटक कुतुबमीनार का दीदार करने पहुंचे

1 of

 

नई दिल्ली। कुतुबमीनार विदेशी पर्यटकों को काफी लुभा रहा है। इस बात की जानकारी भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआई) से मिली है। एएसआई विभाग के मुताबिक, दिल्ली में सबसे अधिक कुतुबमीनार के प्रति पर्यटकों में झुकाव देखा गया है। इस साल अक्टूबर तक कुतुबमीनार को देखने पहुंचे सिर्फ विदेशी पर्यटको की संख्या डेढ़ लाख के करीब रही। एएसआई दिल्ली सर्किल के मुताबिक, विदेशी पर्यटक सबसे ज्यादा कुतुबमीनार देखने पहुंचते हैं। वहीं लालकिला में सबसे अधिक भारतीय पर्यटक पहुंचते हैं। साल 2016-17 में कुतुबमीनार देखने 32 लाख पर्यटक पहुंचे। इनमें देसी पर्यटकों की संख्या लगभग 29 लाख और विदेशी पर्यटकों की संख्या ढ़ाई लाख रही। वहीं लालकिला देखने कुल 30 लाख पर्यटक पहुंचे इसमें देसी 29 लाख और विदेशी पर्यटकों की संख्या एक लाख के आसपास रही।

 

इस साल 2017 -18 में लालकिला देखने गए पर्यटकों की कुल संख्या बढ़कर 31.5 लाख हो गई। इनमें देसी पर्यटक करीब 30 लाख और विदशी पर्यटकों की संख्या लगभग डेढ लाख रही। वहीं कुतुबमीनार में घूमने पहुंचे पर्यटकों की बात की जाए तो यहां इस साल करीब 30 लाख पर्यटक पहुंचे, इनमें देसी पर्यटक लगभग साढ़े 27 लाख और विदेशी तीन लाख रहे। इस साल अक्टूबर तक कुतुबमीनार में लगभग डेढ लाख पर्यटक पहुंचे हैं।एएसआई के अनुसार दिल्ली की एतिहासिक स्मारकों में कुतुबमीनार में सबसे अधिक विदेशी पर्यटक घूमने अाते हैं। 

 

आगे पढ़ें- कुतुबमीनार क्यों बन रहा है खास

 

 

 

इसलिए कुतुबमीनार बन रहा है खास

एएसआई के अनुसार, यहां काफी काम किया गया है। कुछ समय पहले कुतुबमीनार को देश में दिव्यांगों के अनुकुल होने का पुरस्कार मिला था। यह इंडो इस्लामिक वास्तुकला के लिए जाना जाता है। लाइटिंग का काम होने के बाद यहां पर्यटकों की संख्या में इजाफा हुआ है। एएसआई को कुतुबमीनार से वर्ष 2016-17 में लगभग 21 करोड़ रुपए की कमाई हुई है। इसकी तुलना में लालकिला से 14.25 करोड़ रुपए की कमाई हुई है। साल 2017-18 में कुतुबमीनार से यह कमाई बढ़कर साढ़े 23 करोड़ रुपए हो गई। जबकि, लालकिला से होने वाली कमाई का आंकड़ा 14.5 करोड़ रहा। 

 

आगे पढ़ें- टिकट वाले स्मारकों के बारे में

 
 

टिकट वाले स्मारक

कुतुबमीनार, खान-ए-खाना, तुगलकाबाद फोर्ट, कोटला फिरोज शाह, सफदर जंग का मकबरा, लाल किला, हुमायूं का मकबरा, पुराना किला, सुल्तान गढ़ी में टिकट लगता है। कुल मिलाकर दिल्ली में करीब 174 स्मारकों में से दस स्मारकों के लिए प्रवेश शुल्क लिया जाता है।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट