विज्ञापन
Home » Economy » PolicyPrime Minister spent 3.6 thousand crores on Employment Incentive Scheme

सरकार की इस योजना से पहुंचा करीब डेढ करोड़ कर्मचारियों को फायदा, 3,648 करोड़ रुपये तक आया खर्च

तीन करोड़ कामगारों को प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना और सुरक्षा बीमा योजना से लाभ

Prime Minister spent  3.6 thousand crores on Employment Incentive Scheme

प्रधानमंत्री रोजगार प्रोत्साहन योजना (पीएमआरपीआई) से करीब डेढ करोड़ श्रमिकों को फायदा हुआ है। यह योजना नियोक्ताओं को रोजगार सृजित करने के लिए प्रोत्साहित करती है। श्रम मंत्री संतोष गंगवार ने यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि सरकार इस योजना पर अब तक 3,648 करोड़ रुपये खर्च कर चुकी है।

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री रोजगार प्रोत्साहन योजना (पीएमआरपीआई) से करीब डेढ करोड़ श्रमिकों को फायदा हुआ है। यह योजना नियोक्ताओं को रोजगार सृजित करने के लिए प्रोत्साहित करती है। श्रम मंत्री संतोष गंगवार ने यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि सरकार इस योजना पर अब तक 3,648 करोड़ रुपये खर्च कर चुकी है। उल्लेखनीय है कि प्रधानमंत्री रोजगार प्रोत्साहन योजना नियोक्ताओं को नए रोजगार सृजित करने के लिए प्रेरित करने के लिए शुरू की गई है। इस योजना में सरकार कर्मचारी भविष्य निधि संगठन द्वारा संचालित सामाजिक सुरक्षा स्कीमों में नियोक्ताओं के अंशदान का भुगतान करती है।

 

करीब डेढ़ करोड़ कर्मचारियों को मिला लाभ


गंगवार ने अंतरराष्ट्रीय श्रम संगठन (आईएलओ) के शताब्दी समारोह में कहा, "रोजगार प्रोत्साहन योजना से करीब डेढ़ करोड़ कर्मचारियों को लाभ हुआ है और हमने अब तक इस पर लगभग 3,648 करोड़ रुपये खर्च किए हैं।" उन्होंने कहा, "सरकार अंतरिम बजट में रिक्शा चालकों, छोटे दुकानदार, कृषि एवं ग्रामीण श्रमिकों जैसे असंगठित क्षेत्र में काम करने वालों के लिए मेगा पेंशन योजना लाई है। 

 

 तीन करोड़ कामगारों को प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना और सुरक्षा बीमा योजना से लाभ


करीब तीन करोड़ असंगठित क्षेत्र के कामगारों को प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना (पीएमजेजेबीवाई) और प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना (पीएमएसबीवाई) से लाभ हो रहा है।" उन्होंने यह भी कहा कि नई प्रौद्योगिकी, आटोमेशन और कृत्रिम मेधा के मौजूदा परिदृश्य में नौकरियों के नुकसान की आशंका महसूस की गई है और भविष्य के कामों के लिए गठित वैश्विक आयोग ने सभी पहलुओं का अध्ययन किया है और उपयोगी सिफारिश की है। 
 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन
Don't Miss