Advertisement
Home » इकोनॉमी » पॉलिसीPost Office has Rs 9395 Crore unclaimed

पोस्ट ऑफिस के 9,395 करोड़ रुपए का नहीं है कोई दावेदार, लावारिस पड़ी है रकम

इन डाकघरों में है लावारिस रकम

1 of

नई दिल्ली। देशभर में विभिन्न डाकघरों में बचत खातों में 9,395 करोड़ रुपए की रकम पर कोई दावेदार नहीं है। 2,429 करोड़ रुपए की रकम किसान विकास पत्र में लावारिस पड़ी है। इसके बाद मंथली इनकम स्कीम में 2,056 करोड़ रुपए लावारिस पड़े हैं। इसी तरह, एनएससी में भी 1,888 करोड़ रुपए पर दावा करने वाला कोई नहीं है। सबसे अधिक रकम किसान विकास पत्र खाते में लावारिस हैं।

 

इन डाकघरों में है लावारिस रकम

लावारिस पड़ी रकम पश्चिम बंगाल, दिल्ली, पंजाब और उत्तर प्रदेश के डाकघरों में जमा हैं। इससे पहले, भारतीय जीवन बीमा निगम के खातों में भारी मात्रा में रकम दावारहित होने की बात सामने आई थी। इसमें LIC के पास 10,509 करोड़ रुपए और प्राइवेट जीवन बीमा कंपनियों के पास 4,675 करोड़ रुपए लावारिस पड़े थे।

 

जीवन बीमा निगम की 10,509 करोड़ रुपए का कोई दावेदार नहीं है

सरकारी आंकड़ों के मुताबिक, 31 मार्च, 2018 को कुल रकम 15,166.47 करोड़ रुपए थी जिसपर किसी का दावा नहीं था। ऐसी कंपनियों की सूची में सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनी जीवन बीमा निगम शीर्ष पर है, जिसके पास कुल 10,509 करोड़ रुपए पर कोई दावेदार नहीं है, जबकि निजी कंपनियों के पास ऐसी रकम 4,657.45 करोड़ रुपए है।


 

 

 

इन रकम पर नहीं है दावेदारी

निजी कंपनियों में आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल लाइफ इश्योरेंस के पास पड़ी बीमाधारकों की लावारिस रकम 807.4 करोड़ रुपए है। इसके बाद रिलायंस निप्पन लाइफ इंश्योरेंस के पास 696.12 करोड़ रुपए, एसबीआई लाइफ इंश्योरेंस के पास 678.59 करोड़ रुपए और एचडीएफसी स्टैंडर्ड लाइफ इंश्योरेंस के पास 659.3 करोड़ रुपए है जिसपर कोई दावेदारी नहीं है।

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
Advertisement