विज्ञापन
Home » Economy » PolicyAuction of PM Modi's Gifts: Bidders Bought 1800 Gifts For Lakhs Of Rupees

पीएम मोदी को तोहफे में मिली शिव की मूर्ति 10 लाख रुपए में रुपए में बिकी, जानिए अन्य तोहफों की कीमत के बारे में

प्रधानमंत्री कार्यालय ने सूची जारी करके दी जानकारी

1 of

नई दिल्ली.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पिछले पांच वर्षों के दौरान मिले तोहफों की निलामी 31 जनवरी तक चली। अब प्रधानमंत्री कार्यालय ने सूची जारी की है कि इन तोहफों की कितनी कीमत लगी। इसमें सबसे ज्यादा महंगा बिकी अशोक स्तंभ की प्रतिकृति जिसे 13 लाख रुपए में खरीदा गया। इसका बेस प्राइज 4000 रुपए था। वहीं भगवान शिव की एक मूर्ति अपने 5,000 रुपए के बेस प्राइज (आरक्षित मूल्य) से 200 गुना दाम पर खरीदी गई। इसकी बिक्री 10 लाख रुपए में हुई।

 

अन्य तोहफों की इतनी लगी कीमत

- असम के मजुली से मिला वहां का पारंपरिक चिह्न 'होराई’ का बेस प्राइज 2,000 रुपए था। यह 12 लाख रुपए में खरीदा गया।

- अमृतसर के SGPC से मिला समृति चिह्न 'Divinity’ का बेस प्राइज 10,000 रुपए था। इसे 10.1 लाख रुपए में खरीदा गया।

- गौतम बुद्ध की एक मूर्ति 7 लाख रुपए में खरीदी गई। इसका बेस प्राइज 4 हजार रुपए था।

- नेपाल के पूर्व प्रधानमंत्री सुशील कोईराला से मिला शेर का स्टैच्यू 5.20 लाख में बिका।

- खूबसूरत नक्काशी वाला चांदी का एक कलश 6 लाख रुपए का बिका।

- छत्रपति शिवाजी की प्लास्टर ऑफ पेरिस की बनी आवक्ष प्रतिमा 22 हजार रुपए में बिकी जबकि इसकी आरक्षित कीमत केवल एक हजार रुपए थी।

1800 चीजों की हुई नीलामी

इस नीलामी का आयोजन संस्कृति मंत्रालय की ओर से किया जा रहा है। यह नीलामी दो चरणों में हुई। इसमें कुल 1800 वस्तुओं की बोली लगाई गई। पहले चरण में राष्ट्रीय अाधुनिक कला संग्रहालय में दो दिन तक 270 उपहारों और वस्तुओं की नीलामी हुई। तब स्वर्ण मंदिर का एक स्मृति चिह्न 3.5 लाख रुपए में बिका, जिसका आरक्षित मूल्य 10 हजार रुपए तय किया गया था। एक लकड़ी की बाइक और पेटिंग 5-5 लाख रुपए में बिकी। इन दोनों की शुरूआती कीमत 45,000 और 50,000 थी। बाकी उपहारों की ई-नीलामी www.pmmementos.gov.in पर31 जनवरी तक चली। इस नीलामी से मिली राशि नमामि गंगे परियोजना में दी जाएगी।

 

 

नमामि गंगे परियोजना में दी जाएगी यह राशि

इस नीलामी से मिली कुल राशि का को ‘नमामि गंगे परियोजना’ में खर्च किया जाएगा।

प्रधानमंत्री मोदी ने गुजरात के मुख्यमंत्री रहते हुए खुद को मिले उपहारों की नीलामी कराई थी। उससे मिली धनराशि को बालिकाओं की शिक्षा पर खर्च किया गया था।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन
Don't Miss