Home » Economy » PolicyNiti aayog vice chairman asks P Chidambaram to debate on revised GDP figures

जीडीपी पर जंग तेज, नीति आयोग के वाइस चेयरमैन ने पूर्व वित्त मंत्री को ललकारा

उन्होंने चिदंबरम से कहा है कि वह रिवाइज्ड जीडीपी आंकड़ों पर उनके साथ वाद-विवाद करने को तैयार है।

1 of

नई दिल्ली।

सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) की विकास दर पर वर्तमान एवं पूर्व शासक दलों के बीच जंग तेज होती जा रही है। अब नीति आयोग के वाइस चेयरमैन राजीव कुमार ने पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम को ललकारा है। कुमार ने अपने ट्वीट में चिदंबरम को संबोधित करते हुए चुनौती स्वीकारने की बात कही है। उन्होंने चिदंबरम से कहा है कि वह रिवाइज्ड जीडीपी आंकड़ों पर उनके साथ वाद-विवाद करने को तैयार है। आंकड़ों में बदलाव की वजह से एनडीए सरकार के कार्यकाल में जीडीपी विकास दर यूपीए सरकार के कार्यकाल से बेहतर दिख रही है। कुमार ने अपने ट्वीट में कहा है कि आंकड़ों पर हम बहस के लिए तैयार है।

 

चिदंबरम के आरोप को गलत बताया

राजीव कुमार ने कहा कि कल उन्होंने मीडिया को 3 घंटे का विस्तृत इंटरव्यू दिया और चिदंबरम को यह कहना शोभा नहीं देता कि मैंने मीडियो को सवाल पूछने से मना किया था। नए आंकड़ों से होने वाली परेशानी के लिए वह कोई और कारण ढ़ूढें। चिदंबरम ने अपने ट्वीट में कहा था कि नीति आयोग के वाइस चेयरमैन राजीव कुमार आंकड़ों में बदलाव को लेकर बहस करने के बजाय पत्रकारों के सवाल पर यह कह रहे थे कि उनके सवाल जवाब देने लायक नहीं है।

 

आंकड़ों पर छिड़ी बहस

अपने ट्वीट के जरिए कुमार ने कहा था कि नीति आयोग जारी होने वाले डाटा के आधार पर तार्किक नीति तैयार करता है और इन आंकड़ों की जांच एवं मूल्यांकन देश के प्रमुख सांख्यिकी ज्ञाता करते हैं। ए आंकड़ों के मुताबिक कांग्रेस के नेतृत्व वाली यूपीए के शासन काल में औसत आर्थिक विकास दर 6.7 फीसदी रही जबकि वर्तमान सरकार के शासन काल में यह दर 7.3 फीसदी है।

 

आगे पढ़ें- सरकार पर लग रहा आंकड़े बदलने का आरोप

 

 

सरकार ने किया आकंड़ों में फेरबदल

खबरों के मुताबिक मौजूदा केंद्र सरकार ने यूपीए सरकार के दस वर्षोँ के आर्थिक विकास के आकंड़े घटा दिए। सरकार ने नए तरीके से गण्ना करने के बाद जो आकंड़े जारी किए उनमें यूपीए शासनकाल की जीडीपी दर में हर साल एक फीसदी की गिरावट की गई है।

 

आगे पढ़ें- ऐसे बदले गए आंकड़े 


 

ऐसे बदले गए आंकड़े

 

वित्त वर्ष पुरानी जीडीपी दर (फीसद में) नई दर (फीसद में)
2006 9.3 7.9
2007 9.3 8.1
2008 9.8 7.7
2009 3.9 3.1
2010 8.5 7.9
2011 10.3 8.5
2012 6.6 5.2

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट