बिज़नेस न्यूज़ » Economy » Policyनया या करारा होने के बावजूद रद्दी हैं इस तरह के नोट, लेने से पहले जरूर करें चेक

नया या करारा होने के बावजूद रद्दी हैं इस तरह के नोट, लेने से पहले जरूर करें चेक

हमें यह पता होना जरूरी है कि‍ कब एक अच्‍छा-खासा, साबुत और करारा नोट भी रद्दी हो जाता है।

1 of

नई दि‍ल्‍ली। भले ही डि‍जि‍टल ट्रांजैक्‍शन में लगातार बढ़ोतरी हो रही है मगर नोट हमारी फाइनेंशि‍यल लाइफ का बेहद अहम हि‍स्‍सा हैं। इसलि‍ए हमें यह पता होना जरूरी है कि‍ कब एक अच्‍छा-खासा, साबुत और करारा नोट भी रद्दी हो जाता है। वह नोट चाहे 100 का हो या 2000 का ।रि‍जर्व बैंक ऑफ इंडि‍या ने मास्‍टर सर्कुलर जारी कि‍या है, जि‍समें खासतौर पर इसकी हि‍दायत दी गई है। 


हम आपको कुछ ऐसी कंडीशन के बारे में बता रहे हैं, जि‍नमें आपको नोट स्‍वीकार नहीं करना चाहि‍ए। अगर आपने ऐसे नोट को स्‍वीकार कर लि‍ए तो समझ लें कि‍ आपने रद्दी स्‍वीकार की है, भले ही नोट बि‍ल्‍कुल कड़क हो, आप उसे कि‍सी बैंक में क्‍लेम नहीं कर सकते। बैंक ने नोट की वो कंडीशन भी बताई है, जि‍स तरह का नोट अगर बैंक दे तो भी न लें।

याद रखें ये नि‍यम
1 रि‍जर्व बैंक के मास्‍ट सर्कुलर के मुताबि‍क, अगर कि‍सी नोट के ऊपर कोई ऐसा स्‍लोगन का संदेश लि‍खा है जो राजनीति‍क है तो ऐसा नोट कानूनी मान्‍यता खो देता है और उसे रि‍जर्व बैंक ऑफ इंडि‍या के नोट रि‍फंड रूल्‍स 2009 के 6(3) (iii) के तहत रि‍जेक्‍ट कर दि‍या जाएगा।
 2 इसके अलावा रि‍जर्व बैंक ऑफ इंडि‍या के नोट रि‍फंड रूल्‍स 2009 के 6(3) (ii) के तहत डि‍स्‍फीगर्ड नोटों को भी रि‍जेक्‍ट कि‍या जा सकता है। आगे पढ़ें इस तरह के नोट भी होंगे रि‍जेक्‍ट
3  बैंकों को जानबूझ कर काटे गए नोटों को भी रि‍जेक्‍ट कर देना चाहि‍ए। हालांकि‍ कि‍सी नोट को जानबूझकर काटा गया है या वो गलती से कट गया है ये पता करना थोड़ा कठि‍न होता है मगर बारीकी से देखने पर यह पता लगाया जा सकता है। आगे पढ़ें ऐसा नोट बैंक दे तो भी न लें। 

 

4 रि‍जर्व बैंक ने अपने सर्कुलर में डि‍फेक्‍टेड नोटों को मतलब भी बताया है। इसके लि‍ए नोटों को तीन कैटेगरी में बांटा गया है - मटमैला, कटा-फटा और गला।
मटमैला नोट – ऐसा नोट जो सामान्‍य इस्‍तेमाल के दौरान गंदा या कट फट गया हो। इसमें ऐसे नोट शामि‍ल हैं जि‍सके दो हि‍स्‍से हो गए हों, मगर उन्‍हें जोड़ दि‍या हो और उनके बाकी सभी जरूरी फीचर्स मौजूद हों। अगर आपके पास ऐसा नोट है तो आप उसे अपने एकाउंट में जमा करा सकते हैं। हालांकि‍ अगर बैंक आपको ऐसा नोट दे तो स्‍वीकार न करें क्‍योंकि‍ नि‍यम के मुताबि‍क, ऐसे नोट दोबारा जारी करने के लि‍ए नहीं होते। रि‍जर्व बैंक का यह सर्कुलर आरबीआई की वेबसाइट पर उपलब्‍ध है।

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट