Home » Economy » PolicyMacleck created a device that would reduce air pollution

इस डिवाइस पर वाहनों के गुजरने से बनेगी बिजली और कम होगा वायु प्रदूषण, ऐसे करता है यह काम

दिल्ली में जून 2019 में पायलट प्रोजेक्ट शुरू होगा

1 of

नई दिल्ली। शहर में बढ़ते वायु प्रदूषण को देखते हुए मैकलेक वायु-1 नाम की ऐसी डिवाइस बनाई गई है जो न सिर्फ हवा को साफ करेगी, बल्कि बिजली भी बनाएगी। यह डिवाइस भारतीय स्टार्टअप मैकलेक टेक्निकल प्रोजेक्ट लैबोरेटरी नाम की कंपनी ने बनाई है।

मैकलेक के संस्थापक भाइयों नारायण और बलराम भारद्वाज ने बताया,  'अभी इस टेक्नोलॅाजी का परीक्षण किया जा रहा है।अगले साल जून में इस पायलट प्रोजेक्ट को शुरू किया जाएगा।' उन्होंने बताया, 'आईआईटी रुड़की भी इस प्रोजेक्ट में उनके साथ है।' 

 

ऐसे करता है काम 

 

वे बताते हैं,  'इसे बनाने में घरेलू टेक्नोलॅाजी का इस्तेमाल हुआ है। इसे रिसाइकिल भी किया जा सकेगा। इस डिवाइस को मैट की तरह सड़कों पर बिछाया जाएगा। मैट पर वाहनों के गुजरने से दबाव बनता है जिससे हवा साफ होती है और बिजली बनती है।'

 

 

आगे पढ़ें : 10 साल तक सड़क के मेंटिनेंस की भी जरूरत नहीं पड़ेगी

 

10 साल तक सड़क के मेंटिनेंस की नहीं पड़ेगी जरूरत

 

मैकलेक के संस्थापक ने बताया कि 3.75 मीटर चौड़ी सिंगल लेन वाली एक किलोमीटर सड़क पर इस डिवाइस को लगाया जाए, तो बहुत कम ट्रैफिक होने पर भी रोजाना 20,000 यूनिट बिजली बन सकती है। यह 1,600 करोड़ लीटर हवा को भी साफ करेगी। सड़क के ऊपर बिछाने के कारण 10 साल तक सड़क के मेंटिनेंस की भी जरूरत नहीं पड़ेगी।


आगे पढ़ें : इतना खर्च आएगा

 

 

 

इतना खर्च आएगा

 

एक किलोमीटर तक 3.7 मीटर चौड़ा  मैट बिछाने पर 3 करोड़ रुपए का खर्च आएगा। सड़क पर चलने वाले वाहनों से बिजली बनाने के प्रोजेक्ट पर दुनिया में कई जगहों पर काम हो रहा है।  

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट