विज्ञापन
Home » Economy » PolicyAnother major worry for inflation in the report of the Pew Research Center

Loksabha Election : 76 फीसदी ने कहा- भारत में सबसे बड़ा मुद्दा बेरोजगारी 

प्यू रिसर्च सेंटर की रिपोर्ट में महंगाई दूसरी बड़ी चिंता

Another major worry for inflation in the report of the Pew Research Center

लोकसभा चुनाव में हर दल अपने मुद्दों पर जनता को रिझाने में लगे हुए हैं। इसी बीच एक नई रिपोर्ट ने खलबली मचा दी है। इस रिपोर्ट के मुताबिक भारत में सबसे बड़ा मुद्दा बेरोजगारी का है। प्यू रिसर्च सेंटर की रिपोर्ट में 76 प्रतिशत वयस्कों ने  बेरोजगारी को बहुत बड़ी समस्या बताया है।

नई दिल्ली. लोकसभा चुनाव में हर दल अपने मुद्दों पर जनता को रिझाने में लगे हुए हैं। इसी बीच एक नई रिपोर्ट ने खलबली मचा दी है। इस रिपोर्ट के मुताबिक भारत में सबसे बड़ा मुद्दा बेरोजगारी का है। प्यू रिसर्च सेंटर की रिपोर्ट में 76 प्रतिशत वयस्कों ने  बेरोजगारी को बहुत बड़ी समस्या बताया है। रोजगार के अवसरों की कमी को भारतीय जनता ने सबसे बड़ी चुनौती के रूप में देखा है।

 

1.86 करोड़ बेरोजगार 


रिपोर्ट के मुताबिक वर्ष 2018 में अनुमानित 3.5 प्रतिशत औपचारिक बेरोजगारी दर के बाद भी  1.86 करोड़ भारतीय बेरोजगार थे। अंतर्राष्ट्रीय श्रम कार्यालय के अनुमानों के अनुसार खराब गुणवत्ता वाले नौकरियों में 39.37  करोड़ लोग कार्यरत हैं। 

 

यह भी पढ़ें...

 

Apple को लगा तगड़ा झटका, Customers को दी अपनी नाकामी की सूचना, मांगी माफी 

 

दूसरी बड़ी चिंता महंगाई की 


रिपोर्ट में भारतीय की दूसरी बड़ी चिंता मुद्रास्फीति यानी महंगाई की है। 10 में से 7 यानी 73 प्रतिशत का मानना ​​है कि बढ़ती कीमतें एक बहुत बड़ी समस्या हैं। सर्वेक्षण रिपोर्ट में कहा गया है कि अन्य देशों में नौकरियों के लिए जाने वाले लोगों ने भारत के लिए दिक्कत पैदा की है। रिपोर्ट में कहा गया कि 64 प्रतिशत ने रोजगार के लिए दूसरी जगह भटकना कष्टदायक है। 

 

प्रवासियो ने की 63 बिलियन डालर की मदद 

 

वर्ष 2016 में विदेशों में बसे भारतीय प्रवासियों ने सामूहिक रूप से भारत में रहने वाले परिवार और दोस्तों को लगभग 63 बिलियन डालर की मदद की। यह कुल सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) का लगभग तीन प्रतिशत था। वहीं, भारतीय अपने देश में आव्रजन के विस्तार के लिए बहुत कम उत्साह दिखाते हैं। लगभग 10 में से 3 भारतीयों (29 प्रतिशत) का कहना है कि उनकी सरकार को कम आप्रवासियों को अनुमति देनी चाहिए।  सिर्फ 13 प्रतिशत को लगता है कि भारत में और अधिक आव्रजन को प्रोत्साहित किया जाना चाहिए और 11 प्रतिशत को लगता है कि आव्रजन का स्तर उसी तरह रहना चाहिए जैसा अभी है।

 

यह भी पढ़ें...

NYAY योजना:  'राहुल पीएम बनेंगे तो 6 हजार मिलेंगे, वह पत्नी को दे दूंगा'

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन