Home » Economy » PolicyWhy air pollution is most dangerous

बढ़ जाएगी हर एक भारतीय की उम्र चार साल, अगर सरकार मान ले WHO की ये गाइडलाइन

HIV एड्स, सिगरेट और आतंकवाद से ज्यादा खतरनाक है वायु प्रदूषण

1 of

नई दिल्ली. भारत में आज के वक्त में प्रदूषण एक अहम समस्या बनकर उभरा है। दिल्ली एनसीआर जैसे भारत के बड़े शहर प्रदूषण की समस्या का सामना कर रहे हैं। यूनिवर्सिटी ऑफ शिकागो के रिसर्चर की ओर से विकसित किए गए एयर क्वॉलिटी लाइफ इंडेक्स(AQLI) के मुताबिक वायु प्रदूषण की वजह से वैश्विक स्तर पर हर एक व्यक्ति अपने जीवन के 1.8 साल कम जीता है। भारत में वायु प्रदूषण की वजह से हर एक व्यक्ति के जीने की उम्र 4.3 साल कम हुई है। रिपोर्ट में दावा किया गया है कि मानव शरीर पर प्रदूषण का असर एचआईवी एड्स, सिगरेट और आतंकवाद से ज्यादा खतरनाक होता है। 

 

शराब, ड्रग्स और आतंकवाद से ज्यादा खरतनाक है प्रदूषण

रिपोर्ट के मुताबिक एक अनुमान के मुताबिक फर्स्ट हैंड सिगरेट स्मोकिंग से वैश्विक स्तर पर लोगों की औसत आयु में 1.6 साल की कम होती है, जबकि शराब और ड्रग्स का इस्तेमाल करने वालों की जीने की उम्र में 11 महीने कमी आती है। वहीं, गंदा पानी और गंदगी से जीवन यापन करने पर जिंदगी के 7 माह कम हो जाते हैं। एचआईवी एड्स से 4 महीने कम हो जाते हैं। इसके अलावा आतंकवाद से अंतरराष्ट्रीय स्तर पर औसतन लोगों के22 दिन कम होते हैं। ऐसे में प्रदूषण का असर कहीं ज्यादा है। 

 

आगे पढ़ें

भारत और चीन में प्रदूषण का सबसे ज्यादा असर

रिपोर्ट के मुताबिक विश्व के 75 फीसदी लोग ऐसे इलाकों में रहते है, जहां पर प्रदूषण का स्तर WHO की गाइडलाइन से कहीं ज्यादा है। भारत और चीन जैसे देशों में 73 फीसदी जिंदगी प्रदूषण की वजह खत्म हो रही हैं।

 

आगे पढ़ें

 

WHO की गाइडलाइन अपनाने पर आ सकता है सुधार

अगर भारत वर्ल्ड हेल्थ आर्गेनाइजेशन की गाइडलाइन को मान लें, तो औसत तौर पर हर एक भारतीय की उम्र 4.3 साल बढ़ा जाएगी। भारत में एक व्यक्ति की जीने की औसतन उम्र 69 साल होती है, जिसे बढ़ाकर 73 साल किया जा सकता है। 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट