बिज़नेस न्यूज़ » Economy » Policyइन 5 बातों से मात खाते हैं मिडिल क्‍लास के लोग, नहीं बन पाते अमीर

इन 5 बातों से मात खाते हैं मिडिल क्‍लास के लोग, नहीं बन पाते अमीर

अगर यह सच है कि अमीर बनना एक ट्रिक है तो ये भी सच है कि मिडिल क्‍लास को यह ट्रिक नहीं आती है....

1 of

नई दिल्‍ली। अगर यह सच है कि अमीर बनना एक ट्रिक है तो ये भी सच है कि मिडिल क्‍लास को यह ट्रिक नहीं आती है। बिजनेस इनसाइडर की रिपोर्ट के मुताबिक, हमारी दिगामी प्रक्रिया और सोच पर यह निर्भर करता है कि हम भविष्‍य में अमीर बन पाएंगे या नहीं। सीधी भाषा में कहें तो बैंक में पड़ा अकाउंट बैलेंस ही अमीरों को मि‍डल क्‍लास के लोगों से अलग नहीं करता है, बल्कि दुनि‍या के सबसे अमीर, सबसे सफल लोगों की सोच भी दूसरों से अलग होती है। 

 

अमीरों की चाहत होती है अलग 
25 साल से ज्‍यादा समय तक अमीरों पर अध्‍ययन करने के बाद सेल्‍फ मेड राइटर और अरबपति‍ स्‍टीव सीबोल्‍ड ने How Rich People Think को लि‍खा। कई इंटरव्‍यू करने के बाद सीबोल्‍ड ने पाया कि‍ केवल चाहत की कमी ही लोगों को अमीर बनने से नहीं रोकती, बल्‍कि‍ उनकी खुद पर कम वि‍श्‍वास और अपनी क्षमता को कम आंकना भी है। उन्‍होंने बताया कि‍ अमीर लोग खुद के साथ दि‍मागी ट्रि‍क्‍स अपनाते हैं जो उनहें दूसरे से आगे रखते हैं। 

 

नहीं है पैसे की कमी
दरअसल अमीर कभी यह नहीं मानते कि उनके पास पैसे की कमी है। वह खुद से कहते हैं कि‍ उनके पास पैसे की कोई कमी नहीं है, तब भी जब उनके पर्याप्‍त पैसे न हों। अमीर लोग अपने भवि‍ष्‍य के लि‍ए दूसरों से फंड लेने से नहीं डरते। सीबोल्‍ड ने लि‍खा कि‍ अगर उनके पास फाइनेंस जुटाने के लि‍ए अच्‍छा आइडि‍या नहीं है तो वह दूसरे लोगों से पैसा लेने के लि‍ए आगे बढ़ते हैं।
 
असल सवाल यह है कि‍ क्‍या इसे खरीदना, इसमें इन्‍वेस्‍टमेंट करना या इसे लेकर आगे बढ़ना सही है? अगर ऐसा है तो अमीर यह जानता है कि‍ पैसा हमेशा उपलब्‍ध होता क्‍योंकि‍ अमीर लोग हमेशा अच्‍छे इन्‍वेस्‍टमेंट और अच्‍छे परफॉर्मेंस की ताक में रहते हैं।
 
आगे पढ़ें- अमीरों से जुड़ी एक और सोच के बारे में.... 

 

 

अमीर खुद की उम्‍मीदों को बेहद ऊंचा रखते हैं
मि‍डल क्‍लास खुद के लि‍ए फाइनेंस के लि‍हाज से बेहद कम उम्‍मीदें रखते हैं ताकि‍ वह कभी नि‍राश न हों। वहीं, अमीर बेहद ज्‍यादा उम्‍मीदें रखमे हैं, वह अपने लि‍ए कि‍सी भी चुनौती के लि‍ए तैयार रहते हैं।
उन्‍होंने लि‍खा कि‍ कोई भी अमीर बि‍ना ज्‍यादा बड़ा सपना देखे नहीं रह सकता। कुछ लोग मानते हैं कि‍ वह जि‍तना उम्‍मीद रखते हैं उतना ही मि‍लता है। इसके बावजूद कई लोग खुद को मि‍डल क्‍लास तक सीमि‍त रखते हैं, यह सोचकर कि‍ वह खुद को वि‍फलता से बचा रहे हैं।   
 
आगे पढ़ें- यह बात भी अमीर सोचते हैं...

 

पैसा बनाना एक खेल है
सीबोल्‍ड ने लि‍खा कि‍ अमीर लोग बि‍जनेस, जिंदगी और कमाई को एक खेल समझते हैं और यह ऐसा खेल है जि‍से वह जीतना पसंद करते हैं। यही कारण है कि‍ अरबपति‍ रोज काम करते हैं ताकि‍ वह अपनी अगली सफलता को हासि‍ल कर सकें। उन्‍होंने लि‍खा कि‍ ‘खेल खेलने’ की चाहत उनहें दूसरे लेवल पर लगातार लेकर जाती है।
 
आगे पढ़ें- खुद के डर को दूर रखते हैं...

 

 

खुद के डर को दूर रखते हैं
सीबोल्‍ड ने बताया कि‍ उनके दि‍माग को इस लेवल पर लेकर जाते हैं जहां डर की कोई जगह नहीं है। इस लेवल पर सभी चीजें संभव दि‍खती हैं। अपने दि‍माग को इस लेवल पर आने के लि‍ए आपको अपने आरामदायक जोन से बाहर नि‍कलना होगा, यही काम अमीर लोग करते हैं।
 
आगे पढ़ें- खुद से कहना कि‍ अमीर बनना स्‍वाभावि‍क है...


 

अमीर बनना स्‍वाभावि‍त है
उन्‍होंने लि‍खा कि‍ अमीर लोगों का मानना है कि‍ सफलता और खुशी प्रकृति‍ में मौजूद है। यह एकलौता वि‍श्‍वास उनको सफलता पर पहुंचाता है। आम लोगों का मानना है कि‍ वह अमीर नहीं बन सकते। वह खुद से पुछते हैं कि‍ वह कौन हैं कि‍ वह अमीर बन सकें।
 
आगे पढ़ें- पैसे को अपने दोस्‍त के रूप में देखते हैं...

 

पैसे को अपना दोस्‍ता बनाना
सीबोल्‍ड ने लि‍खा है कि‍ अमीर लोग पैसे को अपना सबसे अच्‍छा साथी और दोस्‍त मानते हैं। ऐसा दोस्‍त जि‍सें उनके लि‍ए चिंता भरी रात सोना, तकलीफ लेना और जिंदगी बचाना अच्‍छा लगता है। वहीं, मि‍डल क्‍लास लोग पैसे को इसका उलट ही देखते हैं।

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट