विज्ञापन
Home » Economy » Policyknow how to revive a discontinued public provident fund account

बंद हो गया है आपका PPF अकाउंट तो इस आसान तरीके से फिर से कराएं ACTIVE

देनी होगी मात्र 50 रुपए की पेनेल्टी

know how to revive a discontinued public provident fund account

know how to revive a discontinued public provident fund account यदि आप लॉन्ग टर्म के निवेश की सोच रहे हैं तो पब्लिक प्रोविडेंट फंड एक अच्छा विकल्प है। पीपीएफ आपको टैक्स छूट का फायदा दिलाने के साथ ही कई अन्य फायदे भी देता है। आजकल सभी निजी बैंक ग्राहकों को पीपीएफ की सुविधा देते हैं। इसे खुलवाना काफी आसान होता है। जिस बैंक में आपका अकाउंट हो वहां पीपीएफ अकाउंट आसानी से खुल जाता है। लेकिन कई बार होता है कि पीपीएफ अकाउंट पर मिलने वाले ब्याज का निर्धारण हर तिमाही सरकार की ओर से किया जाता है।

नई दिल्ली । यदि आप लॉन्ग टर्म के निवेश की सोच रहे हैं तो पब्लिक प्रोविडेंट फंड एक अच्छा विकल्प है। पीपीएफ आपको टैक्स छूट का फायदा दिलाने के साथ ही कई अन्य फायदे भी देता है। आजकल सभी निजी बैंक ग्राहकों को पीपीएफ की सुविधा देते हैं। इसे खुलवाना काफी आसान होता है। जिस बैंक में आपका अकाउंट हो वहां पीपीएफ अकाउंट आसानी से खुल जाता है। लेकिन कई बार होता है कि पीपीएफ अकाउंट पर मिलने वाले ब्याज का निर्धारण हर तिमाही सरकार की ओर से किया जाता है।

 

15 साल से पहले बंद नहीं किया जा सकता इनएक्टिव PPF अकाउंट


पीपीएफ अकाउंट में आपको न्यूनतम 500 रुपये का निवेश करना होता है। वहीं इसमें अधिकतम निवेश 1.5 लाख रुपये का किया जा सकता है। अगर आप किसी वित्त वर्ष में 500 रुपये जमा करने से चूक जाते हैं तो आपका पीपीएफ अकाउंट निष्क्रिय (इनएक्टिव) कर दिया जाता है। यदि एक बार पीपीएफ अकाउंट इनएक्टिव हो जाता है तो आप इसे 15 साल से पहले बंद नहीं कर सकते। आपको बता दें कि इनएक्टिव हुए अकाउंट पर लोन लेने की सुविधा नहीं मिलती है। ऐसे में अगर आप किसी वर्ष खाते में योगदान देने से चूक गए हैं तो उसको रिवाइव करा लें उसके बाद यह फिर से एक्टिव हो जाएगा। 

 

इस तरह अपने PPF को कर सकते हैं रिवाइव


यदि आपका पीपीएफ अकाउंट इनएक्टिव हो जाए तो इसे रिवाइव करवाने के लिए आपको अपने नजदीकी बैंक शाखा या पोस्ट ऑफिस जाना होगा। इसके बाद आपको बैंक या पोस्ट ऑफिस को अपने अकाउंट को रिवाइव कराने के लिए एक एप्लीकेशन देनी होगी। इसके लिए आपको 500 रुपये के न्यूनतम सालाना योगदान के साथ 50 रुपये की पेनेल्टी भी देनी होगी।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन
Don't Miss