विज्ञापन
Home » Economy » PolicyIsha Ambani's Royal Invitation card Reached in the kashi vishwanath mandir

खजाने में पहुंचा ईशा अंबानी का शाही न्योता, आखिर क्या है राज

शादी से दो दिन पहले अंबानी ने बाबा के दरबार में भेजा बेशकीमती कार्ड

1 of

 

 

 

नई दिल्ली। आपने यह तो जरूर सुना होगा कि हीरा-जवाहरत खजाने में रखे जाते हैं, लेकिन शादी का कार्ड खजाने में रखा गया है यह जानकर आपको हैरानी जरूर होगी। लेकिन यह सच है देश के सबसे अमीर शख्स और रिलायंस इंस्ट्रीज लिमिटेड के मालिक मुकेश अंबानी की बेटी ईशा अंबानी की शादी का कार्ड खजाने में रखा गया है। बुधवार को ईशा अंबानी और आनंद पीरामल शादी के बंधन में बंध गए। एंटिलिया में आयोजित विवाह समारोह में दुनिया भर के दिग्गज पहुंचे थे। अंबानी परिवार ने ईशा की शादी का कार्ड देशभर के मंदिरों में चढ़ाए थे। वाराणसी के काशी विश्वनाथ मंदिर में ईशा-आनंद की शादी का कार्ड भेजा गया था जिसे इस दरबार में डबल लॉकर में रखा गया है।

 

सोने और कीमती रत्नों से जड़ा यह बेशकीमती कार्ड

यह कार्ड सोने और रत्‍न से जड़ित है। विशेष बॉक्‍स के अंदर ईशा और आनंद के वैवाहिक समारोह में होने वाले प्रत्‍येक मांगलिक आयोजन के आकर्षक डिजाइन और सुनहरे अक्षरों से सजे अलग-अलग कार्ड के साथ एक बड़ा बॉक्‍स भी मिला। हर कार्ड पर संस्‍कृत के श्लोक और अंग्रेजी में कार्यक्रम की विस्‍तृत जानकारी दी गई थी। बड़ा बॉक्‍स खोलने पर भजन की धुन के साथ अंदर के चार खानों में मोती, माणिक, और पन्‍ना पिरोई सोने-चांदी की माला रखी थी। इसके साथ ही लक्ष्‍मी देवी की फोटो और खास तौर पर बनाई गई पोटली में इत्र, पुष्‍प और धूप रखे हुए थे।
 

 

 

आगे पढ़ें

 


 

इस कार्ड की कीमत लाख रुपए से अधिक हो सकती है

 

मिडिया रिपोर्ट के मुताबिक, काशी विश्वनाथ मंदिर में यह बेशकीमती शादी का कार्ड सोमवार को ही पहुंच गया था। इसके बाद इस कार्ड की पूजा की गई और फिर शादी वाले दिन इस कार्ड को खोला गया। जिसके बाद इसे डबल लॉकर में सुरक्षित रखवाया गया है। जानकारों के मुताबिक, इसकी कीमत पांच लाख से ज्‍यादा हो सकती है। काशी विश्वनाथ मंदिर के अलावा मुंबई के सिद्धि विनायक मंदिर में मुकेश अंबानी अपनी फैमिली के साथ खुद जाकर कार्ड चढ़ाकर आए थे।

 

आगे पढ़ें 

 

काशी के पंडितों ने करवाया विवाह

 

मुकेश अंबानी ने काशी के पंडितों पर भरोसा जताते हुए बेटी के विवाह समारोह में इन्‍हें मुंबई और उदयपुर बुलाया। पुरानी काशी यानी पक्‍का महाल के अमित कुमार पांडेय की अगुवाई में पं. मनीष शर्मा, पंडित विनय कपूरिया, पंडित अनूप कुमार, पं‍.‍ राम स्‍वरूप, पं. कृष्‍णा, पं. शिवशरण, पं. वीरेंद्र और पं. अमित ने विवाह की रस्‍में पूरी कराई।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट
विज्ञापन
विज्ञापन
Don't Miss