Home » Economy » Policyyou have to pay extra charge if booked your ticket from private service provider like MakeMyTrip, Yatra, Paytm and Cleartrip

IRCTC के अलावा किसी दूसरे पोर्टल से बुक किया टिकट, तो अब पड़ेगा महंगा, बदले नियम

दूसरे पोर्टल से टिकट बुक करने पर IRCTC प्रति टिकट 12 रुपए प्‍लस टैक्‍स के रूप में एस्‍क्‍ट्रा चार्ज वसूलेगा....

1 of

नई दिल्‍ली। मेक माय ट्रिप, यात्रा, पेटीएम और क्लियर ट्रिप और रेल यात्री डॉट कॉम जैसी वेबसाइट के जरिए अब टिकट बुक करना महंगा पड़ सकता है। टाइम्‍स ऑफ इंडिया में छपी एक खबर के मुताबिक, इंडियर रेलवे कैटरिंग एंड टूरिज्‍म कॉरपोरेशन (IRCTC ) ऐसे टिकटों पर 12 रुपए की फीस वसूलने जा रहा है। 12 रुपए की इस  फीस के अलावा टिकटों पर जीएसटी भी अलग से देना होगा।  

 

अभी तक क्‍या था सिस्‍टम 

बता दें टिकट बुकिंग की सुविधा देने  के लिए IRCTC  अब भी इन ट्रैवेल पोर्टल पर पैसे चार्ज करता है। हालांकि यह चार्ज सालाना आधार पर वसूला जाता है। इसे एनुअल मेंटिनेंस चार्ज कहा जाता है। IRCTC के प्रस्तावित आईपीओ से पहले यह फैसला रेवेन्यू जुटाने के कंपनी के एक नए तरीके के तौर पर देखा जा रहा है। बता दें कि फंड जुटाने के इरादे से केंद्र की मोदी सरकार ने IRCTC  और LIC समेत अपनी कई प्रॉफिटेबल कंपनियों का IPO लाने का फैसला किया है। 

 

कंपनियों ने कहा-कस्‍टमर पर डालो बोझ 

रिपोर्ट के मुताबिक, IRCTC के इस फैसले से सर्विस प्रोवाइडर कंपनियां खुश नहीं हैं। उनकी मांग है कि इस फीस का बोझ कस्‍टमर के सिर पर डाला जाना चाहिए। एक सर्विस प्रवाइडर का कहना है कि रेलवे टिकट बुकिंग से होने वाला उनका रेवेन्यू या  तो नेगेटिव या न्यूट्रल है। पेमेंट गेटवे पर उन्‍हें जो फीस चुकानी पड़ती है, वह कस्टमर से लिए जाने वाले शुल्क से ज्‍यादा होती है। ऐसे में नया चार्ज उनके लिए वहन करना मुश्किल हो जाएगा। अधिकारी ने कहा कि यदि यह बोझ कस्टमर पर नहीं डाला गया तो फिर टिकट बुकिंग से हमें नुकसान होगा।

 

आगे जानें- सर्विस प्रोवाइडर्स को क्‍यों लग रहा है डर... 

 

यह भी पढ़ें- सनडे को ट्रेन लेट हुई तो फ्री मिलेगा खाना, रेलवे की नई योजना

तो हम पिछड़ जाएंगे  

 

इन कंपनियों का कहना है कि फीस में इजाफा करने से उन्हें नुकसान होगा और टिकट बुकिंग बिजनेस में IRCTC की वेबसाइट के मुकाबले टिक नहीं पाएंगे। IRCTC के कॉन्ट्रैक्ट में 'लुक टू बुक' रेश्यो का जिक्र किया गया है। इसका मतलब है कि 70 एन्क्वॉयरी पर कम से कम एक टिकट बुकिंग होना चाहिए। बता दें कि IRCTC ने अपने सिस्टम को सर्विस प्रवाइडर्स के लिए खोलने का फैसला लिया है। इसके तहत सार्विस प्रोवाइडर PNR स्टेटस सर्च और रेल पूछताछ जैसी सेवाएं प्रोवाइड करा सकते हैं। 

 

आगे जानें- तो हमें चुकाना होगा पैसा

 

IRCTC की नई सर्विस, बुकिंग कराते ही पता चल जाएगा टिकट कन्‍फर्म होगा या नहीं

 

 

तो हमें चुकाना होगा पैसा 


सर्विस प्रोवाइर कंपनी के एक अधिकारी ने बताया कि IRCTC के कॉन्ट्रैक्ट रूल्स के मुताबिक यदि 70 एन्क्वॉयरी पर एक टिकट की बुकिंग नहीं होती है तो फिर हर एन्क्वॉयरी पर सर्विस प्रोवाइडिंग कंपनी को  25 पैसे चुकाने होंगे। एक सर्विस प्रवाइडर ने कहा कि एयरलाइंस के साथ IRCTC का करार अलग है। एयरलाइंस को टिकट की बुकिंग पर IRCTC उल्टे कमिशन देती है। दूसरी तरफ टिकटों की सेल पर रेलवे हमसे चार्ज की वसूली करती है।

 

 

आगे पढ़ें- अब इस तरीके से भी बुक कर सकते हैं तत्काल रेल टिकट, रेलवे ने दे दी सुविधा

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट