Home » Economy » Policyओला-उबर ड्राइवर सोमवार से जाएंगे हड़ताल पर- ola uber driver

सोमवार से ओला-उबर के ड्राइवर्स की हड़ताल, इनकम घटने से हैं नाराज

ऐप बेस्ड टैक्सी सर्विस देने वाली कंपनी ओला और उबर के ड्राइवर 18 मार्च रविवार की रात से अनिश्चितकालीन हड़ताल पर जाने की घ

1 of

नई दिल्ली। ऐप बेस्ड टैक्सी सर्विस देने वाली कंपनी ओला और उबर के ड्राइवर 18 मार्च रविवार की रात से अनिश्चितकालीन हड़ताल पर जाने की घोषणा की है। हड़ताल में मुंबई, दिल्ली, बंगलुरु, हैदराबाद और पुणे के ड्राइवर शामिल हो रहे हैं। ऐसे में इन शहरों में आम लोगों को रोजमर्रा के काम में आने-जाने के लिए दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है।

 

 

50% से ज्यादा घटी इनकम

महाराष्ट्र के नवनिर्माण वहातक सेना के संजय नाइक ने कहा कि उन्होंने 5 से 7 लाख रुपए का इन्वेस्टमेंट किया है और वहे 1.50 लाख रुपए महीने की इनकम उम्मीद कर रहे थे। ओला और उबर ने ड्राइवर्स को यह आश्वासन दिया था कि उन्हें इतनी इनकम होगी लेकिन इनकम इसकी आधी भी नहीं हो रही है। ये सब ओला और उबर के मिसमैनेजमेंट के कारण हो रहा है। मुंबई में करीब 45,000 कैब्स है लेकिन स्लोडाउन के कारण कारोबार में 20 फीसदी की गिरावट है।

 

ड्राइवर्स और कंपनियों की बातचीत फेल

अब ड्राइवर्स की ओला उबर से बातचीत फेल हो गई है। कैब चालकों का कहना है कि वो सोमवार को अपने डिवाइस को सुबह से बंद रखेंगे। इस दौरान केवल कंपनी द्वारा चलाई जा रही कैब ही लोगों को उपलब्ध होगी, जिनकी संख्या काफी कम है।

 

इन शहरों में पड़ेगा असर

जिन शहरों में इस हड़ताल का सर्वाधिक असर पड़ेगा उनमें दिल्ली-एनसीआर, मुंबई, बंगलुरु, गुड़गांव, कोलकाता, चेन्नई, हैदराबाद सहित अन्य शहर शामिल हैं। इन शहरों में ज्यादातर लोग ऑफिस आने-जाने के लिए इन कंपनियों की कैब का प्रयोग करते हैं। ड्राइवर्स का कहना है कि वो सोमवार को ओला-उबर के ऑफिस के बाहर परिवार के साथ प्रदर्शन भी करेंगे।

 

ड्राइवर्स की ये है मांग

ड्राइवर्स का कहना है कि उनकी आमदनी में लगातार कमी हो रही है। इन कंपनियों की ड्राइवर्स यूनियन की प्रमुख मांग है कि पहले की तरह उनको कम से कम 1.25 लाख रुपए कारोबार मिले। दूसरा, कंपनी अपने द्वारा चलाई जा रहीं कैब को बंद करें। तीसरा, उन ड्राइवर्स को दोबारा से रखा जाए जिन्हे कस्टमर्स ने कम रेटिंग दी है। चौथा, गाड़ी की कॉस्ट के अनुसार किराए तय किए जाएं।

 

इतने शहरों में है सर्विस

ओला जहां देश के 110 शहरों में अपनी सर्विस देती है, वहीं उबर 25 शहरों में मौजूद है। ओला से रोजाना करीब 20 लाख लोग सफर करते हैं। 10 लाख लोग उबर की टैक्सी से अपना रोजाना का सफर पूरा करते हैं।

 

 

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट