Home » Economy » Policyआपके आइडिया पर कंपनी खोलने में मदद करेगा SBI, जल्‍द लाएगा नए नियम

आपके आइडिया पर कंपनी खोलने में मदद करेगा SBI, जल्‍द लाएगा नए नियम

SBI फिनटेक स्‍टार्टअप्स में इन्‍वेस्‍टमेंट शुरू करने के लिए नियमों में बदलाव करने पर विचार कर रहा है।

1 of

मुंबई. अगर आप कोई स्‍टार्टअप शुरू करना चाहते हैं तो जल्‍द ही भारतीय स्‍टेट बैंक (SBI) आपको फाइनेंशियली सपोर्ट करने के लिए आगे आ सकता है। दरअसल SBI फिनटेक स्‍टार्टअप्स में इन्‍वेस्‍टमेंट शुरू करने के लिए नियमों में बदलाव करने पर विचार कर रहा है। यह बात SBI के चेयरमैन रजनीश कुमार ने कही है। अभी बैंक इसके लिए अलग से फंड होने के बावजूद फिनटेक स्‍टार्टअप्‍स में इन्‍वेस्‍ट नहीं कर सकता है। इसकी वजह स्‍टार्टअप्‍स के जोखिम हैं। 

 

कुमार ने कहा कि SBI एक पब्लिक इंस्‍टीट्यूशन है और स्‍टार्टअप्‍स में इन्‍वेस्‍टमेंट बहुत जोखिम भरा माना जाता है। इसलिए हम समझते हैं कि स्‍टार्टअप में इन्‍वेस्‍टमेंट के लिए परंपरागत तरीका काम नहीं आएगा। बैंक ने फिनटेक स्‍टार्टअप्‍स में इन्‍वेस्‍टमेंट के लिए 50 करोड़ रुपए अलग से निर्धारित किए हुए हैं। इन पैसों को स्‍टार्टाअप्‍स में इन्‍वेस्‍ट किया जा सके, इसके लिए हम नियमों में बदलाव करेंगे। 

 

फ्लिपकार्ट, ओला जैसी और कंपनियों की जरूरत 

कुमार ने इसकी वजह बताते हुए कहा कि देश को आगे ले जाने के लिए फ्लिपकार्ट, ओला जैसी और कंपनियों को खड़ा करने की जरूरत है। फिनटेक सेक्‍टर को सहयोग देने के लिए SBI के पास बोर्ड से मंजूर पॉलिसी है। यह पॉलिसी सेंट्रल विजिलेंस कमीशन जैसी निगरानी रखने वाली बॉडीज से भी मंजूरी प्राप्‍त है। 

 

25 करोड़ से मुंबई में बनाएगा कोलैबोरेटिव इनोवेशन सेंटर 

कुमार ने आगे कहा कि SBI फिनटेक स्‍टार्टअप्‍स से जुड़े दो अन्‍य मुद्दों पर भी आगे बढ़ने में सक्षम है। इनमें ऐसे स्‍टार्टअप्‍स से सामान की खरीद और आपसी सहयोग से इकोसिस्‍टम में सक्रिय भूमिका निभाना शामिल है। आगे कहा कि बैंक नवी मुंबई की सैटेलाइट सिटी में एक कोलैबोरेटिव इनोवेशन सेंटर स्‍थापित करने के लिए 25 करोड़ रुपए इन्‍वेस्‍ट करने की भी योजना बना रहा है। इसके पीछे उद्देश्‍य नई टेक्‍नोलॉजी को बढ़ावा देना है। 

 

आगे पढ़ें- अब तक 150 से ज्‍यादा स्‍टार्टअप्‍स के साथ काम

अब तक 150 से ज्‍यादा स्‍टार्टअप्‍स के साथ काम कर चुका है काम  

कुमार के मुताबिक, SBI चैटबोट, डाटा एनालिटिक्‍स आदि समेत कई अत्‍याधुनिक टेक्‍नोलॉजी पर अब तक 150 से ज्‍यादा स्‍टार्टअप्‍स के साथ काम कर चुका है। बेस्‍ट सॉल्‍युशंस की खोज और उनके साथ कोलैबोरट करने के लिए बैंक हैकाथन्‍स के 5 एडिशन आयोजित कर चुका है। 

 

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट