Home » Economy » PolicyRailways earn 9 billion rupees by filling forms from unemployed

बेरोजगारों से फार्म भरवाकर रेलवे ने कमाए 900 करोड़ रुपए

मालभाड़ा और यात्री नहीं वैकेंसी से रेलवे को हुआ है मुनाफा

Railways earn 9 billion rupees by filling forms from unemployed

नई दिल्ली। अगर आपको लगता है कि रेलवे की कमाई का जरिया मालभाड़ा और यात्री है तो आप पूरी तरह सही नहीं है। मालाभाड़ा और यात्रियों के अलावा रेलवे को जहां से सबसे ज्यादा होती है वह है वैकेंसी। वैकेंसी के लिए आवेदन भरने के लिए उम्मीदवारों से जो शुल्क लिया जाता है उससे रेलवे को अरबों का मुनाफा होता है। यानी बेरोजगारों से फार्म भरवाकर रेलवे अच्छी खासी रकम अपने हिस्से बना लेता है। इस साल रेलवे ने बेरोजगारों से फार्म भरवाकर करीबन 900 करोड़ रुपए कमाए हैं।

 

सबसे ज्यादा वैकेंसी से कमाती है रेलवे

2017-18 यानी इस एक साल में रेलवे वैकेंसी के लिए आवेदन भरने के लिए उम्मीदवारों से मिलने वाली शुल्क से 800,85,49,000 रुपए कमाए हैं। 

आरटीआई एक्टिविस्ट मिंटू प्रसाद जायसवाल ने सूचना का अधिकार (RTI) के तहत रेलवे से कई बिन्दूओं पर जानकारी मांगी थी। जैसे कि खाने की क्वालिटी में सुधार पर कितना खर्च हुआ। प्लेटफार्म टिकट की बिक्री से कितने रुपए आएं। इनमें यह भी मुख्य रुप से जानकारी मांगी गई थी कि 2014 से अब तक कितनी वैकेंसी निकाली गई। उनके आवेदन शुल्क पर कितना राजस्व मिला। इनमें से सिर्फ वैकेंसी के लिए भरे गए आवेदन के साथ जमा की गई शुल्क राशि की जानकारी दी गई। इसके तहत पता चला कि वैकेंसी से रेलवे को कितना मुनाफा होता है।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट