Home » Economy » PolicyPrice of Imported clothes wont up as govt hike import duty

इंपोर्टेड गारमेंट नहीं होंगे महंगे, सरकार के ड्यूटी बढ़ाने का कस्टमर की जेब पर नहीं पड़ेगा असर

सरकार के टेक्सटाइल प्रोडक्ट पर इंपोर्ट ड्यूटी दोगुनी करते हुए 20 फीसदी करने का असर कस्टमर की जेब पर नहीं पड़ने वाला है।

Price of Imported clothes wont up as govt hike import duty

नई दिल्ली. फिलहाल इंपोर्टेड गारमेंट महंगे नहीं होंगे। सरकार के टेक्सटाइल प्रोडक्ट पर इंपोर्ट ड्यूटी दोगुनी बढ़ाकर 20 फीसदी करने का असर कस्टमर की जेब पर नहीं पड़ने वाला है। इंडस्ट्री के मुताबिक जीएसटी आने के बाद ड्यूटी कम हो गई थी, लेकिन इंपोर्टर्स ने दाम नहीं घटाए थे। इसलिए अब ड्यूटी बढ़ने का बहुत ज्यादा असर मार्केट पर नहीं पड़ने जा रहा है। यानी इंपोर्टेड कपड़े महंगे नहीं होंगे।

 

महंगे नहीं होंगे इंपोर्टेड गारमेंट

कन्फेडरेशन ऑफ इंडियन टेक्सटाइल इंडस्ट्री के चेयरमैन संजय जैन ने moneybhaskar.com को बताया कि इंपोर्टेड कपड़े महंगे नहीं होंगे, बल्कि इसका फायदा घरेलू इंडस्ट्री को होगा। जैन ने बताया की जीएसटी से पहले टेक्सटाइल प्रोडक्ट के इंपोर्ट पर इंपोर्ट और काउंटर वेलिंग ड्यूटी मिलाकर करीब 22 से 23 फीसदी ड्यूटी थी जो जीएसटी आने के बाद 10 फीसदी हो गई थी। सरकार इसे पुराने प्री-जीएसटी लेवल पर लेकर आई है। जीएसटी आने के बाद जब ड्यूटी घट गई थी, तो किसी ने भी दाम नहीं घटाए थे। अब ड्यूटी बढ़ने के बाद कोई फर्क नहीं पड़ने वाला है।

 

 

दाम पर नहीं पड़ेगा असर

कपड़ों के बड़े ब्रांड्स में से एक कैंटाबिल के एमडी विजय बंसल ने कहा कि दाम पर कोई असर नहीं पड़ने जा रहा है, क्योंकि अब ड्यूटी प्री-जीएसटी लेवल पर आ गई है। अब कारोबारियों के मार्जिन पर थोड़ा असर जरूर पड़ेगा। सरकार ने बीते महीने जैकेट्स, सूट्स पर ड्यूटी बढ़ाई थी।

 

 

घरेलू इंडस्ट्री को होगा फायदा

अपैरेल एक्सपोर्ट प्रमोशन काउंसिल के रीजनल हेड और मैन्युफैक्चरर एचकेएल मग्गू ने बताया कि इसका फायदा घरेलू इंडस्ट्री को होगा क्योंकि जीएसटी आने के बाद ड्यूटी 10 फीसदी रह गई थी। अब सरकार ने इसे लेवल प्लेइंग फील्ड दिया है।

 

सरकार ने बढ़ाई इंपोर्ट ड्यूटी

सरकार ने 328 टेक्सटाइल प्रोडक्ट्स पर इंपोर्ट ड्यूटी दोगुनी करते हुए 20 फीसदी कर दी है। देश में इन आइटम्स की मैन्युफैक्चरिंग को बढ़ावा देने के लिए यह फैसला किया गया है। नोटिफिकेशन में कहा गया कि ‘कस्टम एक्ट, 1962 के सेक्शन 159 के अंतर्गत टेक्सटाइल प्रोडक्ट्स की 328 टैरिफ लाइंस पर कस्टम ड्यूटी की मौजूदा रेट को 10 फीसदी से बढ़ाकर 20 फीसदी कर दिया गया है।

 

 

50 से ज्यादा आइटम्स पर बढ़ाई जा चुकी है ड्यूटी

सरकार ने बीते महीने जैकेट्स, सूट्स और कालीन सहित 50 से ज्यादा टेक्सटाइल प्रोडक्टस इंपोर्ट ड्यूटी दोगुनी बढ़ाकर 20 फीसदी कर दी थी। इस पहल का उद्देश्य डॉमेस्टिक मैन्युफैक्चरिंग को बढ़ावा देना था।

prev
next
मनी भास्कर पर पढ़िए बिज़नेस से जुड़ी ताज़ा खबरें Business News in Hindi और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट